आर्थिक तंगी से जूझ रहे पति-पत्नी ने बच्चियों संग नहर में लगाई छलांग


फरीदाबाद। आर्थिक तंगी से जूझ रहे पति-पत्नी ने अपनी दो बच्चियों के साथ मंगलवार रात आगरा नगर में छलांग लगा दी। नौ साल के बेटे को मां ने धक्का देकर बना लिया। मामले की सूचना मिलने मौके पहुंची पुलिस और फायर बिग्रेड की टीम लोगों की तलाश में जुटी हैं, लेकिन किसी का कुछ पता नहीं चला है। वहीं दूसरी ओर पुलिस ने मामले में लोगों की तलाश के लिए नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स की मदद के लिए उपायुक्त को पत्र लिखा है।
जानकारी के अनुसार सरस्वती कॉलोनी विनय नगर में रहने वाले 40 वर्षीय रमेश पंत मूल रूप से नैनीताल के रहने वाले हैं। यहां वह किराए के मकान में पत्नी और बच्चों के साथ रहते हैं। घर के समीप ही बाईपास रोड पेट्रोल पंप के निकट मोमोज की रेहड़ी लगाते हैं। उनका बड़ा बेटा नौ साल का यश, छह साल की बेटी ईसानी और दो साल की बेटी खुशी हैं। मंगलवार की रात दुकान बंद करके करीब 10 बजे मोबाइल पर बात करके पत्नी दीपा को बच्चों समेत सरस्वती कॉलोनी के नए पुल पर बुलाया। दीपा तीनों बच्चों को लेकर पुल पर पहुंच गई, जहां कुछ देर दोनों ने बातचीत की। रमेश ने सबसे पहले ईसानी को नहर में फेंका और फिर स्वयं कूद गया। इसके बाद दीपा ने यश को एक तरफ धक्का देकर बचा लिया, लेकिन उसने दो साल की बेटी खुशी को गोद में लेकर नहर में छलांग लगा दी। देखते ही देखते मौके पर लोगों का जमावड़ा लग गया। लोगों ने तुरंत इसकी सूचना पुलिस को दी। पल्ला थाना प्रभारी सुभाष चंद, एएसआई दिनेश त्यागी, संजय और अन्य पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस के जवानों ने नहर में उतरकर तलाश की लेकिन कुछ नहीं पता चला।
फायर बिग्रेड कर्मियों ने जगह-जगह कांटा डालकर उन्हें तलाश करने की कोशिश की, लेकिन उन्हें भी कोई सुराग नहीं लिया। पुलिस ने नौ साल के यश को गुरुग्राम से आए परिचित को सौंप लिया। पुलिस बच्चे को लेकर उसके कमरे तक भी गई, लेकिन कमरे में कुछ भी ऐसा नहीं मिला, जिससे की उनके परिवारजनों को सूचना दी जा सके। हालांकि पुलिस यश के माध्यम से उसके परिजनों तक घटना के बारे में सूचना देने के प्रयास में लगी है। पुलिस का दावा है कि आर्थिक तंगी की वजह से दंपति ने यह कदम उठाया।