प्रवासी मजदूरों को खाना खिलाएगी दिल्ली सरकार, ईडीएमसी के स्कूलों में खाना वितरण शुरू


नई दिल्ली। कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के चलते राजधानी में लगाए गए लॉकडाउन के बाद प्रवासी मजदूरों का पलायन और गरीब-बेसहारा लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसी दिशा में राहत देते हुए दिल्ली सरकार की तरफ से सीलमपुर विधानसभा के आधा दर्जन स्कूलों में खाना वितरण शुरू किया गया है। इस पहल के शुरुआती दौर में 12 हजार लोगों को खाना दिया गया जिसे आने वाले समय में जरूरत के मुताबिक बढ़ाया जाएगा.कोरोना काल में खाना वितरणजरूरतमंदों को सरकार खिला रही है खानादरअसल खाना वितरण की यह पहल सीलमपुर डी ब्लॉक स्थित निगम प्राइमरी स्कूल में दिल्ली सरकार की तरफ से प्रवासी मजदूरों जरूरतमंद और गरीब लोगों के लिए चलाई जा रही है। इस दौरान दिल्ली सिविल डिफेंस की टीम में लगातार वहां मौजूद रहकर लोगों को समाजिक दूरी मास्क और सैनिटाइजर के लिए लगातार जागरूक करती है। वहीं स्कूलों में खाना वितरण के लिए हालांकि सिविल डिफेंस और शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है लेकिन इसके साथ ही आम आदमी पार्टी के वॉलिंटियर्स भी यहां देखे जा सकते हैं। इस दौरान जायजा लेने पहुंची निगम पार्षद आसमा रहमान ने बताया कि दिल्ली सरकार किसी को भी खाली पेट नहीं रखना चाहती है। 
इस छोटे लॉकडाउन में खाने की व्यवस्था सरकार की तरफ से की गई है ताकि वह लोग अपने खाने को लेकर परेशान नहीं हो। उन्होंने बताया कि मौजूदा समय में सीलमपुर विधानसभा के आधा दर्जन ईडीएमसी के स्कूलों में खाने की व्यवस्था की गई है। वहीं खाना वितरण की व्यवस्था में लगे शिक्षक मौहम्मद हसन ने बताया कि वह सुनिश्चित कर रहे हैं कि इस दौरान इस बात का ख्याल रखा जाए कि को खाना लेने आने वाले लोग साफ बर्तन लेकर आए.इसके अलावा खाना वितरण प्रक्रिया में शामिल आप कार्यकर्ता रिजवान देहलवी ने बताया कि पिछले साल जिस तरह से सरकार ने लॉक डाउन में गरीब मजदूर और प्रवासियों के लिए खाने की व्यवस्था की थी उसी तर्ज पर इस बार भी छोटे लॉक डाउन में प्रवासी मजदूरों को खाना वितरित किया जा रहा है।