जहरीली शराब से मौतों के बाद ऐक्शन, प्रयागराज में अवैध शराब के अड्डों पर बड़ी छापेमारी


प्रयागराज। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के आते ही अवैध कच्ची शराब का काला कारोबार पनपने लगता है। पंचायत चुनाव में खड़े हो रहे उम्मीदवार अपने वोटरों को रिझाने के लिए उनके सामने हर हथकंडे अपनाते हैं। हालांकि यह सारी चीजें चोरी छुपे प्रत्याशी करते हैं। इस बीच प्रयागराज पुलिस और आबकारी विभाग ने कई इलाकों में छापेमारी कर अवैध और कच्ची शराब बनाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की। इस दौरान 120 से ज्यादा लीटर अवैध शराब बरामद की गई।
पंचायत चुनाव को लेकर की गई छापेमारी
करेली इलाके में उस समय हड़कंप मच गया जब सैदपुर गांव में आबकारी टीम और पुलिस ने मिलकर छापेमारी की। पुलिस को सूचना मिली थी कि इस गांव में कच्ची और अवैध शराब बनाई जा रही है। आबकारी निरीक्षक इंद्रजीत गर्ग और मैथिली शरण सिंह आबकारी निरीक्षक मेजा ने करेली पुलिस के साथ मिलकर करेंदा गांव और सैदपुर में छापेमारी की। इस दौरान 50 क्विंटल से अधिक महुआ, 200 कुंटल लहन, 120 लीटर से अधिक अवैध शराब और 100 किलो गुड़ बरामद हुआ। इस छापेमारी में 2 आरोपियों को अरेस्ट किया गया है।
जहरीली शराब पीने से हो चुकी हैं मौतें
उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़, चित्रकूट और प्रयागराज में जहरीली शराब की वजह से मौतें हुई हैं। प्रदेश सरकार के कड़े निर्देश के बाद आबकारी और पुलिस विभाग हरकत में आई है। अवैध कच्ची शराब के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई शुरू कर दी गई है। अब तक जहरीली शराब की वजह से चित्रकूट में चार, प्रतापगढ़ में 15 से ज्यादा और प्रयागराज में 12 लोगों की मौत हो चुकी है। आए दिन पुलिस और आबकारी विभाग अवैध शराब के अड्डों पर कार्रवाई करती है, लेकिन फिर से ये अवैध धंधा शुरू हो जाता है।