हरिद्वार से मिलेगी गाजियाबाद के मरीजों को ऑक्सिजन, भेल कंपनी से मिलेंगे एक हजार से ज्‍यादा सिलिंडर


  • ऑक्सिजन की आपूर्ति को लेकर गाजियाबाद के डीएम की अगुवाई में अधिकारियों ने बैठक की
  • इसमें तय किया गया कि जिले में ऑक्सिजन सिलिंडर की आपूर्ति को बढ़ाया जाएगा
  • इसके लिए हरिद्वार की भेल कंपनी की तरफ से एक हजार से अधिक सिलिंडर दिए जाएंगे
गाजियाबाद ब्यूरो। ऑक्सिजन की आपूर्ति को लेकर गाजियाबाद के कार्यवाहक डीएम कृष्णा करुणेश की अगुवाई में स्वास्थ्य, पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ 3 घंटे तक लगातार बैठक चली। इसमें तय किया गया कि जिले में ऑक्सिजन सिलिंडर की आपूर्ति को बढ़ाया जाएगा। इसके लिए हरिद्वार की भेल कंपनी की तरफ से एक हजार से अधिक सिलिंडर दिए जाएंगे।
अधिकारियों ने तत्काल टीम को सिलिंडर लाने के लिए रवाना कर दिया है। बुधवार तक टीम गाजियाबाद पहुंच आ जाएगी। एडीएम सिटी शैलेंद्र सिंह ने बताया कि भेल से सिलिंडर मिलने के बाद होम आइसोलेशन में रहने वाले जरूरतमंद 200 से 300 मरीजों को नियमित रूप से सिलिंडर की आपूर्ति की जाएगी। साथ ही डाक्टरों को हिदायत दी गई है कि जिन मरीजों का ऑक्सिजन लेवल 94 के आसपास हो, उन्हें दवा लेकर होम आइसोलेशन के लिए भेजा जाए। ऐसे मरीजों को एडमिट किए जाने से बचना चाहिए, ताकि ऑक्सिजन की खपत को कम किया जा सके।
उन्होंने बताया कि जब जिस भी मरीज का एंटीजन और आरटीपीसीआर टेस्ट में रिपोर्ट पॉजिटिव आएगी तो उन्हें इलाज की पूरी किट तत्काल मुहैया की जाएगी, जिससे मरीज होम आइसोलेशन में रहते हुए इलाज कर सके।
हर हाल में मरीज को करना होगा एडमिट
डीएम ने अस्पताल प्रबंधकों से सख्ती के साथ कहा कि जो भी मरीज अस्पताल पहुंच जाता है, उसे हर हाल में एडमिट करके इलाज करना होगा। अस्पताल के गेट पर यदि किसी मरीज की मौत होती है तो इसके लिए अस्पताल प्रबंधक जिम्मेदार होंगे, क्योंकि कुछ मामलों में अस्पताल की तरफ से मरीज को बाहर से वापस कर दिया जा रहा है। एडीएम सिटी ने बताया कि यदि किसी ने प्राइवेट लैब में आरटीपीसीआर टेस्ट करवाया है और उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है तो वहां पर भी मरीज को दवा की किट दी जाएगी। प्राइवेट लैब तक दवा की किट पहुंचाने का काम बुधवार से शुरू कर दिया जाएगा।