इंजीनियर से कार लूटने की घटना का खुलासा, इंदिरापुरम पुलिस ने चार आरोपियों को किया गिरफ्तार


सूर्य प्रकाश,(गाजियाबाद)। गाजियाबाद और गौतमबुद्ध नगर पुलिस ने संयुक्त अभियान में इंदिरापुरम थाना क्षेत्र स्थित वैशाली सेक्टर-छह से रविवार देर रात चार शातिर लुटेरों को गिरफ्तार किया। उनके कब्जे से गौतमबुद्ध नगर से लूटी गई इंजीनियर की ब्रेजा कार व आइफोन बरामद हुआ है। 12वीं फेल लुटेरा विधि के छात्र के साथ गिरोह चला रहा था। उनका आपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है।
पुलिस अधीक्षक नगर द्वितीय ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि आरोपितों की पहचान यश कसाना, गौरव बैंसला व प्रवीण देवधर निवासीगण लोनी और शाहरुख निवासी मसूरी के रूप में हुई है। पूछताछ में पता चला है कि 14 मार्च को गौतमबुद्ध नगर के सूरजपुर थाना क्षेत्र स्थित मिगसन चौक के पास से आरोपितों ने इंजीनियर निशांत की ब्रेजा कार और आइफोन लूटा था। लूट के दौरान वह सब्जी लेने गए थे। उनकी पत्नी व चार माह की बेटी कार में सवार थी। लुटेरों ने उन्हें तमंचे के बल कर बंधक बना लिया था। करीब दो सौ मीटर दूर उन्हें चलती कार से नीचे फेंक दिया था। लुटेरे कार और उसमें रखा आइफोन लूटकर फरार हो गए थे। ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि आरोपितों से लूटी गई ब्रेजा कार और आइफोन बरामद कर लिया गया है। उनके पास से दो तमंचा, चार कारतूस, दो चाकू, दो फर्जी नंबर प्लेट भी बरामद की गई हैं।
इंदिरापुरम थाना प्रभारी निरीक्षक संजीव शर्मा ने बताया कि पूछताछ में पता चला है कि आरोपितों ने लूट के थोड़ी देर बाद ही कार की नंबर प्लेट बदल दी गई थी। लुटेरे उसमें दिल्ली का नंबर प्लेट लगाकर लोनी भाग गए थे। लोनी में उसे चला रहे थे। वह उसे बेचने के लिए ग्राहक की तलाश कर रहे थे। रविवार को वह पुलिस के हत्थे चढ़ गए। संजीव शर्मा ने बताया कि 12वीं फेल यश कसाना मास्टर माइंड है। वह विधि तृतीय वर्ष के छात्र प्रवीण देवधर के साथ मिलकर गिरोह चलाता था। गिरोह का सदस्य गौरव बैंसला एक कार की एजेंसी पर काम करता था, जबकि शाहरूख गैराज चलाता था। गौरव और शाहरूख वाहन के क्षेत्र से जुड़े थे, इससे उन्हें लूट की कारों को बेचने में आसानी रहती थी।