कानपुर में चलती रोडवेज बस बनी आग का गोला, यात्रियों ने कूद कर बचाई जान


कानपुर ब्यूरो। मंगलवार दोपहर चलती रोडवेज बस में आग लग गई। देखते ही देखते रोडवेज बस आग के गोले में तब्दील हो गई। बस को आग की लपटों में घिरा देख यात्रियों में कोहराम मच गया। बस में सवार यात्री चीखपुकार कर मदद की गुहार लगाने लगे। सभी ने कूद कर अपनी जान बचाई। एक दर्जन से अधिक यात्रियों के लगेज जलकर राख हो गया। वहीं, यात्रियों ने अपनी जान जोखिम में डालकर लगेज को बस से बाहर निकाल लिया। मौके पर पहुंची दमकल की तीन गाड़ियों ने आग पर काबू पाया।
चकेरी थाना क्षेत्र स्थित मलिक गेस्ट हाउस के पास एक चलती रोडवेज बस में आग लग गई। लीडर बस डिपो की रोडवेज मंगलवार सुबह 06.30 बजे प्रयागराज से कानपुर के लिए चली थी। चलती बस में इंजन से काला धुआं उठ रहा था, लेकिन बस चालक दिनेश सोनकर इस बात का अंदाजा नहीं लगा पाए। जब राहगीरों ने बस चालक को आग लगने का संकेत दिया। इसके बाद बस चालक ने बस को रोक दिया। इतनी देर में बस को आग की लपटों ने घेरना शुरू कर दिया था।
राहगीरों ने की मदद
रोडवेज बस में आग लगने से दोनों तरफ का ट्रैफिक रुक गया। राहगीरों ने अपने वाहनों को रोक बस में बैठी सवारियों की मदद में जुट गए। मलिक गेस्ट हाउस और वहां के दुकानदारों ने सबमर्सिबल पंप से आग बुझाने के प्रयास करने लगे। इसके साथ ही स्थानीय लोगों ने बस में आग लगने की सूचना फायर ब्रिगेड को दी। वहीं, बस चालक दिनेश सोनकर और परिचालक रंज कुमार का मानना है कि बस में शॉट-सर्किट से आग लगी है। इस आग में यात्रियों के सूटकेश, बैग आग की भेंट चढ़ गए।
चकेरी इंस्पेक्टर दधिबल तिवारी के मुताबिक, रोडवेज में आग लगी थी। फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पा लिया है। बस में 40 यात्री सवार थे, सभी यात्री सुरक्षित है। यातायात को बहाल करा दिया गया है।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर