विश्वविद्यालय के कार्यालयों एवं शैक्षणिक विभागों का होगा संपूर्ण ऑटोमेशन एवं डिजिटलाइजेशन


अनूप मिश्रा,(कानपुर)। दिनांक 12 अप्रैल दिन सोमवार को छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय कानपुर के नवागंतुक कुलपति प्रोफेसर विनय कुमार पाठक ने कार्यभार ग्रहण कर लिया। कार्यभार ग्रहण करने के उपरांत अधिकारियों एवं विभागाध्यक्ष के साथ बैठक में उन्होंने सख्त निर्देश देते हुए कहा कि विश्वविद्यालय के लिए छात्र हित सर्वोपरि है।अगर कोई भी छात्र अपनी मार्कशीट डिग्री वेरिफिकेशन या ट्रांसक्रिप्ट के लिए विश्वविद्यालय में  आता है और उसके कार्य में कोई हीला हवाली की जाती है तो संबंधित अधिकारी जिम्मेदार होगा। उन्होंने अधिकारियों एवं कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहा कि हम सब छात्रों के दिए हुए फीस के पैसे से सैलरी प्राप्त करते हैं अतः हमारी पहली जिम्मेदारी यह है कि हम अपनी कक्षाएं जिम्मेदारी से लें और अधिकारी छात्रों के कार्यों को प्राथमिकता पर रखें। इसके पहले भावुक होते हुए आदरणीय कुलपति प्रोफेसर विनय कुमार पाठक ने कहा कि यह मेरे लिए गर्व का विषय है कि इस विश्वविद्यालय का मैं  पुरातन छात्र रहा हूं उसी विश्वविद्यालय में आज कुलपति बनने का अवसर मिला। उन्होंने सभी को संबोधित  करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय केवल कुलपति और कुलसचिव से नहीं चलते यह सभी के सामूहिक प्रयास से ही चलते हैं और मेरा प्रयास रहेगा कि मैं सभी को साथ लेकर चलूं और एक टीम भावना के साथ कार्य करूं। विश्वविद्यालय के विभिन्न शिक्षकों से पूर्व  से ही परिचित रहा हूं । उन्होंने कहा कि आज संचार क्रांति का दौर है, अतः छात्र छात्राओं  के विभिन्न कार्यों के लिए विश्वविद्यालय के विभिन्न कार्यालयों एवं शैक्षणिक विभागों का पूर्ण रूप से ऑटोमेशन  और डिजिटलाइजेशन किया जाएगा। जिससे उनको विश्वविद्यालय मैं भटकना न पड़े भविष्य की योजनाओं के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय को ए ग्रेड दिलाना है। इसके लिए  ज्यादा से ज्यादा विभागों को नियमित करने के लिए हर संभव प्रयास किया जाएगे।