गाजियाबाद जिले की साइबर सेल ने इंटरनेशनल साइबर ठगों के गैंग का किया पर्दाफाश


मनीष मित्तल,(गाजियाबाद)। गाजियाबाद साइबर सेल ने जापानी कंपनियों को ठगने वाले गैंग का खुलासा करते हुए छह आरोपियों को गिरफ्तार किया है। विदेशी कंपनियों को गुमराह करने के लिए भारतीय ठगों ने जापानी भाषा सीखी थी। सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट समेत अन्य तकनीकी सेवाएं देने के नाम पर गैंग करोड़ों की ठगी कर चुका है। आरोपी सॉफ्टवेयर असिस्टेंस के नाम पर ठगी करते थे। दिल्ली से कोचिंग लेकर जापानी भाषा सीखी थी। आरोपी इंदिरापुरम में ऑफिस खोलकर ठग गैंग चला रहे थे। गिरफ्तार आरोपी लोनी, बिहार, दिल्ली और हरियाणा के रहने वाले हैं। दो मुख्य आरोपी राम और गौरव फरार है। जापान की कंपनियों से इंटरनेट कॉलिंग से बात करते थे। गिफ्ट कूपन मंगाकर हवाला के जरिये रकम लेते थे। दो महीने में हजारों डॉलर की ठगी कर चुके हैं। एसएसपी अमित पाठक, एसपी सिटी प्रथम निपुण अग्रवाल और साइबर सेल प्रभारी सीओ अभय कुमार मिश्र ने बताया कि पकड़े गए आरोपित बेगमपुर रोहिणी दिल्ली निवासी आशीष सूरी, मवाना मेरठ निवासी अविनाश गुप्ता, पंचतत्व सोसायटी नोएडा निवासी एडविन जार्ज, मुनीरका दिल्ली निवासी आदर्श, ट्रोनिका सिटी निवासी उमेश नेगी और मंडावली दिल्ली निवासी विक्रमचंद दास हैं। विक्रमचंद आठवीं पास है और कॉलसेंटर में चपरासी था जबकि आदर्श 12वीं पास है। अन्य सभी आरोपित स्नातक हैं। आरोपितों के 15 बैंक खाते पुलिस को मिले हैं, इन्हें पुलिस ने सीज करा दिया है। बैंक से इन खातों की स्टेटमेंट मांगी गई है। गौरव व रामकुमार के पकड़े जाने के बाद पूरी जानकारी मिल सकेगी।
एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि कंप्यूटर हार्डवेयर में समय-समय पर अपडेट, सॉफ्टवेयर रिन्यू समेत अन्य तकनीकी अपडेट की आवश्यकता होती है। जापान की कुछ सॉफ्टवेयर कंपनियों ने पूर्व में भारतीय एजेंसियों से टाइअप किया था। यह डाटा करीब पूर्व में लीक हो गया और गिरोह के हाथ लग गया। इसके बाद इस गिरोह ने योजना बनाकर इस पर काम शुरू किया। गिरोह के सरगना इंटरनेट कॉलिग के जरिये जापानी कंपनियों से संपर्क करते थे और गिरोह के सदस्यों से जापानी भाषा में बात कराते थे। वह उन्हें सॉफ्टवेयर अपडेट का झांसा देकर जापान से ही सॉफ्टवेयर खरीदवाते थे और उनके सिस्टम को रिमोट पर लेकर सॉफ्टवेयर की गोपनीय की कॉपी कर चोरी कर लेते थे। इसके बाद वह इस सॉफ्टवेयर को दूसरी कंपनी को बेच देते थे और पैसा अपने खातों में ट्रांसफर करा लेते थे।
आरोपित अपने खातों में जापानी डॉलर मंगाते थे और इन्हें रुपयों में बदलवाते थे। पुलिस को जानकारी मिली है कि दिल्ली में हवाला का काम करने वाले कुछ लोग इस काम में उनका साथ देते थे। पुलिस करेंसी बदलवाने वालों को तलाश रही है। पकड़े जाने के बाद उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही आरोपित गूगल-पे एप के कूपन भी जापानी कंपनियों से मंगाते थे और उनका भुगतान दिल्ली के एजेंटों से करा लेते थे।
आरोपित पिछले करीब डेढ़ साल से ठगी का कारोबार चला रहे थे। गिरोह के एक सदस्य ने बताया कि पिछले दो माह फरवरी व मार्च में ही वह करीब 60 हजार जापानी डॉलर की ठगी कर चुके हैं। गिरोह अब तक जापानी कंपनियों से करोड़ों रुपये की ठगी कर चुका है।