निमोनिया के इलाज के नाम पर गर्म सलाखों से दागा, दो माह की अबोध बालिका की मौत


  • भीलवाड़ा चित्तौड़गढ और राजसमंद ज़िलों में निमोनिया के इलाज के नाम पर दे रहे हैं दर्द
  • मासूम बच्चों की गर्म सलाख़ों से दागने का सिलसिला अभी रुकने का नाम नहीं ले रहा
  • भीलवाड़ा के जिला अस्पताल में एक बच्ची की हुई मौत
भीलवाड़ा। भले ही हम अब 21वीं सदी में जी रहे हो। लेकिन अभी भी भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़ और राजसमंद जैसे जिलों में चिकित्सा विभाग ग्रामीणों को यह समझाने में विफल रहा है कि इलाज और अंधविश्वास में कितना बड़ा फर्क है। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है कि क्योंकि इन जिलों में दर्जनों मामले निमोनिया के इलाज के नाम पर बच्चों को गर्म सलाखों से दागने के आते रहते हैं। ऐसा ही एक मामले में राजसमंद जिले का भी आया है। यहां 2 माह की अबोध बालिका सपना बागरिया का निमोनिया के इलाज के नाम पर गर्म सलाखों से दागने के बाद भीलवाड़ा के जिला अस्पताल में उपचार के लिए लाया गया। लेकिन देर रात उसने इलाज के दौरान ही दम तोड़ दिया।
17 अप्रैल को भीलवाड़ा जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया
मिली जानकारी के अनुसार इस 2 माह की बालिकाओं को बालिकाओं को 17 अप्रैल को भीलवाड़ा के जिला अस्पताल में भर्ती करवाया था । इसके पेट पर गर्म सलाखों से दागने के तीन निशान मौजूद थे। बाल कल्याण समिति राजसमंद के अध्यक्ष कमल पालीवाल की इस संबंध में पुलिस में रिपोर्ट भी करवाई है। रिपोर्ट राजसमंद जिले की रेलमगरा थाना पुलिस ने दर्ज की है।
पच्चीस दिन पहले भी आया था मामला
उल्लेखनीय है कि राजसमंद ज़िले के आमेट थाना क्षेत्र में पच्चीस दिन पहले ही भी ऐसा ही एक मामला सामने आ चुका है। यहां भी बच्चे की इसी प्रकार दागने से उसकी मौत हो हुई थी। इसी तरह भीलवाड़ा ज़िले में दो साल पहले एक ऐसे मामले में सात लोगों को गिरफ़्तार किया गया था।
पिता का कहना चूल्हे का जलता अंगारा गिर गया
गंगापुर थाने के सहायक उप निरीक्षक कैलाश चंद ने बताया की हमने मामला दर्ज कर अनुसंधान शुरू किया है । शव का पोस्टमार्टम करवा कर परिजनों को सौंप दिया है । बालिका के पिता भेरू लाल क़ानूनी कार्यवाही से बचने के लिए खाना बनाते समय चूल्हे से जलता हुआ अंगारा गिरने की बात कह रहे है, जबकि बालिका के पेट पर गर्म सलाख़ों से दागने के तीन निशान मौजूद है। इन मामलों में बाल कल्याण समिति द्वारा दर्ज कराए मुक़दमों में बाल प्रताड़ना अधिनियम में तीन से पांच साल की सजा का प्रावधान है ।


Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर