यमुना विहार के पंचशील अस्पताल ने प्रशासन से मांगा ऑक्सीजन, डीएम ने कार्रवाई की दी धमकी


विनय मिश्रा,(दिल्ली ब्यूरो)। दिल्ली में ऑक्सीजन का संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। आरोप है कि जब अस्पताल प्रशासन से ऑक्सीजन उपलब्ध कराने की मांग कर रहे हैं तो उलटे उन्हें कड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी भी दी जा रही है। अस्पतालों को अपने स्तर पर ही कहीं से भी ऑक्सीजन लाने का दबाव भी बनाया जा रहा है। पूर्वी दिल्ली के यमुना विहार अस्पताल के पंचशील अस्पताल के निदेशक को इसी तरह के एक आदेश का सामना करना पड़ रहा है। पंचशील अस्पताल, यमुना विहार के डायरेक्टर डॉक्टर वीके गोयल ने मीडिया से कहा कि उनके अस्पताल में ऑक्सीजन की सप्लाई करने के लिए दो वेंडर सरकार ने निर्धारित कर दिए थे। अचानक ही वेंडर ने आज यह सूचना दी कि अपरिहार्य कारणों से वह ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं कर सकता। उन्होंने तुरंत इस बात की जानकारी जिला प्रशासन को दी और अस्पताल के लिए ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए कहा।
लेकिन जिलाधिकारी ने एक आदेश जारी करते हुए उन्हें ही मंगलवार शाम पांच बजे तक आवश्यक ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने का आदेश जारी कर दिया। ऐसा न करने की स्थिति में उन पर महामारी एक्ट के प्रावधानों के अंतर्गत उन पर कार्रवाई करने की बात भी कही गई।
अस्पताल प्रशासन ने लिखित रूप में जिलाधिकारी को बताया कि वे अपने स्तर पर ऑक्सीजन की आपूर्ति करने में सक्षम नहीं हैं और इसके लिए सरकार उनका सहयोग करे, लेकिन आरोप है कि उनकी इस अपील को अनसुना कर उनके ऊपर ही कार्रवाई करने का आदेश दिया जा रहा है।   
पूर्वी दिल्ली के इस अस्पताल को महामारी की शुरुआत में ही दिल्ली सरकार ने कोविड अस्पताल घोषित कर दिया था। इस समय यहां 40 से अधिक कोरोना मरीजों का इलाज चल रहा है। ऑक्सीजन की कमी के बाद भी मरीजों की स्थिति को ध्यान में रखते हुए अस्पताल को इलाज जारी रखने का निर्देश दिया गया है। अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से यहां भर्ती मरीजों पर संकट गहरा सकता है। हालांकि इस सन्दर्भ में जिलाधिकारी से संपर्क नहीं हो पाया है।