114 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हवाएं, गुजरात तट से टकराया चक्रवाती तूफान


नेशनल डेस्क। अरब सागर में आए चक्रवाती तूफान के सोमवार को मुंबई से होते हुए गुजरात तट की ओर जाने के दौरान आज अपराह्न शहर में 114 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी चली। भारत मौसम विज्ञान विभाग, मुंबई की वरिष्ठ निदेशक शुभांगी भुटे ने बताया कि मौसम विभाग के मुंबई केन्द्र के अनुसार सबसे तेज हवा 108 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से आज दोपहर कोलाबा वेधशाला में दर्ज की गई। बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) द्वारा दिन में जारी बयान के अनुसार, दक्षिण मुंबई के कोलाबा इलाके में अफगान चर्च स्थित मौसम विभाग के केंद्र ने दोपहर करीब दो बजे हवा की रफ्तार 114 किलोमीटर प्रति घंटा दर्ज की। बीएमसी ने बताया कि इसी समय पर कोलाबा वेधशाला ने हवा की रफ्तार 108 किलोमीटर प्रति घंटा दर्ज की। भुटे ने बताया कि कोलाबा और सांताक्रूज वेधशालाओं ने सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े चार बजे के बीच 184 और 186 मिलीमीटर बारिश दर्ज की। भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुंबई केन्द्र ने आज दिन में कहा था कि सुबह करीब 11 बजे कोलाबा वेधशाला ने हवा की गति 102 किलोमीटर प्रतिघंटा दर्ज की थी। बीएमसी ने मुंबई में मौसम निगरानी के लिए 60 स्वचालित (ऑटोमैटिक) मौसम केन्द्र बनाए हैं। बीएमसी के अधिकारी ने बताया कि आंधी के कारण बांद्रा-वर्ली सी-लिंक (समुद्री रास्ते) को आवाजाही के लिए बंद कर दिया गया था और लोगों से वैकल्पिक रास्ता चुनने को कहा गया था। रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि तेज आंधी के कारण दक्षिण मुंबई स्थित छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस पर सामान्य यात्रियों के लिए बने शेड की छत पर लगी प्लास्टिक शीट उड़ गयी थी, हालांकि रेलवे कर्मचारियों ने तुरंत इस पर संज्ञान लिया।
गुजरात तट के पास पहुंचा चक्रवात ताउते
गुजरात तट के पास पहुंचा चक्रवात ताउते, टकराने की प्रक्रिया शुरू और यह अगले दो घंटे जारी रहेगी। सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, एहतियात के तौर पर राज्य प्रशासन ने 17 जिलों के तटीय इलाकों से एक लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया और सोमवार सुबह फिर बचाव कार्य शुरू किया। राज्य आपात सेवा केन्द्र के अनुसार, सोमवार सुबह छह बजे तक 24 घंटे में गुजरात के 21 जिलों के 84 तालुका में चक्रवाती विक्षोभ के कारण हल्की बारिश भी हुई। छह तालुका में करीब एक इंच से अधिक बारिश हुई। भारत मौसम विभाग (आईएमडी) के बुलेटिन के अनुसार, तूफान ‘ताउते’ ‘‘अत्यंत तीव्र चक्रवाती तूफान’’ में बदल गया है। आईएमडी ने कहा, ‘‘ इसके उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और 17 मई की शाम को गुजरात तट पर पहुंचने और 17 मई की रात (आठ से 11 बजे के बीच) पोरबंदर और महुवा (भावनगर जिला) के बीच गुजरात तट को पार करने का अनुमान है। 
मध्य प्रदेश के जिलों में ऑरेंज एवं येलो अलर्ट जारी
भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने अरब सागर के तटीय इलाकों में आये चक्रवात ताउते के चलते मध्य प्रदेश के 13 जिलों में आगामी 24 घंटों में कहीं-कहीं पर भारी बारिश की संभावना के आलोक में सोमवार को ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। इसके अलावा, आईएमडी ने प्रदेश के नौ संभागों में आगामी 24 घंटों में गरज के साथ बिजली चमकने एवं बारिश के साथ-साथ 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से कहीं-कहीं पर तेज हवाएं चलने के लिए येलो अलर्ट भी जारी किया है। मौसम विभाग द्वारा सोमवार दोपहर 12 बजे जारी मौसम बुलेटिन में ऑरेंज अलर्ट की चेतावनी देते हुए कहा है कि आगामी 24 घंटों के लिए (मंगलवार प्रात: तक वैध) मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर, सागर, रायसेन, राजगढ़, बड़वानी, अलीराजपुर, झाबुआ, धार, रतलाम, शाजापुर, आगर मालवा, नीमच एवं मंदसौर जिलों में कहीं-कहीं पर भारी वर्षा होने की संभावना है। इसके अलावा, इसमें येलो अलर्ट की चेतावनी देते हुए कहा गया है कि प्रदेश के जबलपुर, शहडोल, सागर, रीवा, इंदौर, उज्जैन, भोपाल, होशंगाबाद, ग्वालियर एवं चंबल संभागों के जिलों में कहीं-कहीं पर आगामी 24 घंटों में गरज के साथ बिजली चमकने एवं बारिश के साथ-साथ 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती हैं।
राजनाथ से तीनों सशस्त्र बलों से नागरिक प्रशासन की हर मदद करने को कहा
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को तीनों सशस्त्र सेनाओं को निर्देश दिये कि वे चक्रवात ताउते के कारण बनी परिस्थितियों से निपटने में तटीय राज्य महाराष्ट्र और गुजरात में नागरिक प्रशासन की हर संभव मदद करें। चक्रवात से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिये सशस्त्र बलों की तैयारियों की समीक्षा के बाद सिंह ने ये निर्देश दिये। रक्षा मंत्रालय ने कहा, “रक्षा मंत्री ने निर्देश दिया कि तीनों सेनाएं मौजूदा स्थिति से निपटने के लिये नागरिक प्रशासन की हर संभव सहायता करें।” सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये समीक्षा बैठक की जिसमें प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, रक्षा सचिव अजय कुमार, नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह, वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया और सेना प्रमुख एम एम नरवणे समेत अन्य अधिकारी भी मौजूद थे। मंत्रालय ने कहा कि प्रभावित इलाकों में जरूरत पड़ने पर तत्काल सहायता व राहत सामग्री पहुंचाने के लिये नौसेना के तीन पोतों को तैयार रखने को कहा गया है। अधिकारियों ने बताया कि कुछ अन्य पोत भी पश्चिमी समुद्र तट पर खराब मौसम के कारण फंसी मछली पकड़ने वाली नौकाओं/छोटी नौकाओं की मदद के लिए तैयार हैं। नौसेना के समुद्री टोही विमान लगातार मछुआरों को चक्रवात की जानकारी और चेतावनी दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्री को बताया गया कि भारतीय नौसेना के 11 गोताखोर दलों को भी तैयार रहने को कहा गया है जबकि 12 समुद्री राहत दल और चिकित्सा दल नागरिक प्रशासन की मदद के लिये गठित किये गए हैं।
भारतीय सेना की 180 टीम और नौ इंजीनियरों का कार्यबल तैयार
भारतीय सेना ने सोमवार को कहा कि चक्रवात ताउते के सोमवार शाम गुजरात तट से टकराने की संभावना को देखते हुए उसने 180 टीम और नौ इंजीनियर कार्यबलों को तैयार रखा है। सेना ने बयान जारी कर कहा, ‘‘सेक्टर कमांडर और डिविजन मुख्यालय जिलाधिकारियों और राजस्व आयुक्तों के संपर्क में हैं जो गुजरात में राहत कार्यों के लिए नोडल अधिकारी हैं।’’ सेना ने कहा कि इसने उन तालुकाओं और जिलों की पहचान की है जहां चक्रवात का प्रभाव ज्यादा हो सकता है और इसने कर्मियों को तुरंत कार्य में जुटने के लिए तैयार कर रखा है। इसने कहा, ‘‘लोगों का जीवन बचाने और सड़कों को तुरंत साफ करने पर ध्यान रहेगा ताकि कोविड अस्पतालों के लिए ऑक्सीजन आदि की आवाजाही सुनिश्चित की जा सके।’’ सेना ने कहा कि वह स्थिति पर नजर बनाए हुए है।
तूफान की चेतावनी के कारण मुंबई हवाईअड्डा रात आठ बजे तक बंद
मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे (सीएसएमआईए) ने सभी सेवाएं चक्रवात ‘ताउते’ की चेतावनी के मद्देनजर अब रात आठ बजे तक निलंबित रखने की घोषणा की है। इससे पहले, शाम छह बजे तक सेवाएं निलंबित रखने की सूचना दी गयी थी। यह दिन में तीसरी बार है जब निजी हवाईअड्डा परिचालक ने सेवाएं निलंबित रखने की अवधि बढ़ायी है। उसने शुरू में पूर्वाह्न 11 बजे से तीन घंटे के लिये सेवाएं बंद करने की घोषणा की गयी थी। बाद में उसे बढ़ाकर शाम छह बजे तक किया गया। सीएसएमआईए ने अपने ताजा बयान में कहा, ‘‘चक्रवात को देखते हुए मुंबई हवाईअड्डे पर परिचालन 17 मई को स्थानीय समयानुसार रात आठ बजे तक बंद रहेगा।’’ मुंबई हवाईअड्डा देश में दूसरा सबसे व्यस्त हवाईअड्डा है। लेकिन कोरोना वायरस महामारी के कारण यात्रा मांग फिलहाल कम है और यहां से फिलहाल रोजाना करीब 250 उड़ानों का परिचालन होता है। इस बीच, मुंबई आ रही इंडियो और स्पाइसजेट की तीन उड़ानों के मार्ग में बदलाव किया गया है। सीएसएमआईए ने कहा कि शहर आने वाली इंडिगो की एक उड़ान को हैदराबाद की ओर मोड़ दिया गया, जबकि स्पाइसजेट की एक उड़ान को सूरत की ओर मोड़ा गया। बयान के मुताबिक इसके अलावा इंडिगो की एक उड़ान को वापस लखनऊ भेजा गया। अरब सागर में आए चक्रवाती तूफान के कारण सोमवार को मुंबईऔर आसपास के इलाके पर असर पड़ा है। इस तूफान के कारण लोकल ट्रेन सेवाएं प्रभावित हुई हैं।
महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र में छह लोगों की मौत
महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र में भीषण चक्रवाती तूफान ‘ताउते’ से जुड़ी अलग-अलग घटनाओं में छह लोगों की मौत हो गयी वहीं तीन नाविक लापता हैं। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जिन लोगों की मृत्यु हुई, उनमें से तीन लोग रायगढ़ में, एक सिंधुदुर्ग जिले में मारा गया वहीं दो लोगों की मौत नवी मुंबई तथा उल्हासनगर में उन पर पेड़ गिर जाने से हो गयी। एक सरकारी बयान के अनुसार सिंधुदुर्ग जिले में आनंदवाड़ी हार्बर पर खड़ीं दो नौकाएं डूब गयीं। दोनों नौकाओं पर सात लोग सवार थे। बयान के अनुसार इन सात लोगों में से एक की पहचान जिले के देवगड़ तालुका के राजाराम कदम के तौर पर की गयी है जिनकी मृत्यु हो गयी, वहीं तीन अन्य लापता हैं। बाकी तीन नाविक सुरक्षित हैं। सरकार ने कहा कि सोमवार को दोपहर दो बजे तक की स्थिति के अनुसार रायगढ़ में 1,886 मकान आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गये, वहीं तूफान के प्रकोप की वजह से पांच मकान पूरी तरह तबाह हो गये। इससे पहले राज्य की मंत्री अदिति तटकरे ने कहा था कि रायगढ़ में तूफान की वजह से 2,299 परिवारों (8,383 लोगों) को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। बयान के अनुसार दोपहर दो बजे तक जिले में 23.42 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी। महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने कहा कि चक्रवाती तूफान की वजह से कोंकण क्षेत्र में बड़ी संख्या में पेड़ गिर गये। ठाणे के उपायुक्त शिवाजी पाटिल ने कहा कि नवी मुंबई और उल्हासनगर में पेड़ गिरने की घटनाओं में दो लोगों की मौत हो गयी। पालघर के जिलाधिकारी मानिक गुरसाल ने कहा कि जिले में रात आठ बजे तक तूफान का अलर्ट प्रभावी रहेगा।
कर्नाटक में 121 गांव प्रभावित, छह की मौत
कर्नाटक में चक्रवात ताउते की वजह से प्रभावित तटीय और मलनाड जिले में अब तक छह लोगों की मौत हो गई। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। कर्नाटक राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अधिकारियों की ओर से स्थिति को लेकर जारी रिपोर्ट में बताया गया कि आज सुबह तक 121 गांव और तालुका चक्रवात से प्रभावित हैं। बयान में बताया गया कि 547 लोगों को अब तक उनके संबंधित स्थानों से निकाला गया है और चक्रवात से लोगों को बचाने के लिए यहां खोले गए 13 राहत शिविरों में 290 लोग शरण लिए हुए हैं। बयान में बताया गया कि अब तक 333 घरों, 644 खंभों, 147 ट्रांसफर्मरों, 57 किलोमीटर सड़कों, 57 जालों और 104 नावों को क्षति पहुँची है।मौसम विभाग ने दक्षिण कन्नड़, उत्तर कन्नड़, बेलगावी, हावरी, धारवाड़, चामराजनगर, मैसुरु, कोडागु, चिकमंगलुरु और शिवमोगा जिले में गरज के साथ बारिश, मध्यम बारिश और 30-40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से हवाएं चलने की आशंका जाहिर की है। अधिकारियों ने रविवार को बताया था कि चक्रवात आगे उत्तर यानी महाराष्ट्र के तटीय इलाकों की तरफ़ बढ़ रहा है और सोमवार तक राज्य के ऊपर इसकी पकड़ कमजोर हो जाएगी। अग्निशमन बल, पुलिस, तटीय पुलिस, होम गार्ड और राज्य आपदा मोचन बल के करीब 1,000 प्रशिक्षित कर्मी तीन तटीय और पड़ोसी जिलों में राहत और बचाव कार्यों के लिए तैनात किए गए हैं। वहीं राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के दलों को भी कार्यों में लगाया गया है।