कोरोना के पस्त भारत! एक दिन में 4.12 लाख नये मरीज, लगभग 4000 लोगों की हुई मौत


नेशनल डेस्क। कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर भारत की स्थिति को लगातार खराब करता जा रहा है। कोरोना के आकड़ों में अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा देखा गया है। भारत ने गुरुवार को 4.12 लाख से अधिक ताजे मामलों  सामने आये हैं। 24 घंटों में लगभग 4,000 मौतों की सूचना दी गयी। भारत के शीर्ष वैज्ञानिक सलाहकार ने कहा है कि कोविड संक्रमण की एक तीसरी लहर अपरिहार्य है और नई लहर के लिए तैयार रहना आवश्यक है।
शीर्ष पांच राज्य जिन्होंने अधिकतम मामले दर्ज किए हैं, 57,640 मामलों के साथ महाराष्ट्र हैं, इसके बाद कर्नाटक में 50,112 मामले हैं, केरल में 41,953 मामले हैं, 31,111 मामले के साथ उत्तर प्रदेश और 23,310 मामले हैं। नए मामलों के 49.52% मामलों की रिपोर्ट इन पांच राज्यों में से है, जिनमें अकेले महाराष्ट्र 13.98% नए मामलों के लिए जिम्मेदार है। भारत ने पिछले 24 घंटों में 3,980 मौतों की सूचना दी है। महाराष्ट्र (920) में अधिकतम मौतें हुईं, इसके बाद उत्तर प्रदेश में 353 मौतें हुईं।
भारत दूसरी लहर के तहत एक भयानकक स्थिति में पहुंच गया है और ऐसे में तीसरी लहर का प्रकोप कितना भयानक हो सकता है इसके लिए सरकारों को तैयारी करनी होगी। देश प्रतिदिन 3.5 लाख कोविड -19 मामलों और 3,000 से अधिक मौतों की रिकॉर्डिंग कर रहा है। ऑक्सीजन, अस्पताल के बेड और वैक्सीन की आपूर्ति में कमी के कारण, भारत को 3,000 टन से अधिक विदेशी सहायता प्राप्त कर रहा है।
बाइडन प्रशासन ने अब विश्व व्यापार संगठन के समक्ष भारत के प्रस्ताव का समर्थन करने की घोषणा की है ताकि उसकी आपूर्ति को बढ़ावा देने के लिए कोविड के टीके पेटेंट को अस्थायी रूप से माफ किया जा सके। अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि ने कहा है कि यह वैश्विक स्वास्थ्य संकट है और असाधारण उपायों के लिए कहा जाता है। बाइडन प्रशासन के फैसले से डब्ल्यूटीओ की जनरल काउंसिल के लिए प्रस्ताव को मंजूरी देना आसान हो जाएगा। भारत में कोरोनोवायरस समाचार पर लाइव अपडेट का पालन करें।
हरियाणा में बुधवार को कोविड-19 से एक दिन में 181 मरीजों की मौत के साथ ही महामारी से जान गंवाने वालों का कुल आंकड़ा बढ़कर 4960 पहुंच गया जबकि इस दौरान संक्रमण के कुल 15416 नए मामले सामने आए। अधिकारियों ने बताया कि राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या अब बढ़कर 558975 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग के दैनिक बुलेटिन के मुताबिक, भिवानी में सबसे ज्यादा 18 मरीजों की जान गई जबकि गुरुग्राम और हिसार में 15-15, करनाल में 13, अंबाला और पानीपत में 13-13, झज्जर और कैथल में 10-10 जबकि सिरसा, यमुनानगर और रोहतक में नौ-नौ मरीजों की जान गई।