बलिया में शवों का खाकी की मौजूदगी में टायरों से अंतिम संस्‍कार, 5 पुलिसकर्मी सस्‍पेंड


  • पिछले दिनों लगातार नदियों से मिल रहे शवों की अंत्येष्टि का जिम्मा जिला प्रशासन ने उठाया था
  • लेकिन बलिया से ऐसा वीडियो सामने आया है जिसने जिला पुलिस की संवेदनहीनता को उजागर किया है
  • इस वीडियो में पुलिस की मौजूदगी में एक शव की अंत्येष्टि लकड़ी के बजाय टायरों से जलाकर की जा रही है
बलिया,(उत्तर प्रदेश)। कोरोना काल मे यूपी सरकार जहां सब इंतजाम चुस्त-दुरुस्त होने का दावा कर रही है, वहीं बलिया जिले के वायरल वीडियो ने सभी इंतजामों की कलई खोल कर रख दी है। पिछले दिनों लगातार नदियों से मिल रहे शवों की अंत्येष्टि का जिम्मा जिला प्रशासन ने उठाया था। लेकिन बलिया से ऐसा वीडियो सामने आया है जिसने जिला पुलिस की संवेदनहीनता को उजागर किया है। इस वीडियो में पुलिस की मौजूदगी में एक शव की अंत्येष्टि लकड़ी के बजाय टायरों से जलाकर की जा रही है। एसपी बलिया ने इस मामले में 5 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है।
बलिया जिले में कोरोना काल में पुलिस विभाग की संवेदनहीन चेहरा जाहिर करने वाला एक वीडियो वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में टायर के सहारे लावारिश शव का अंतिम संस्कार होता देखा जा सकता है। यह सब पुलिस की मौजूदगी में किया जा रहा है।
इस वीडियो के बारे में बताया जा रहा है की यह फेफना थाना क्षेत्र के मालदे घाट का है। इस घाट पर नदी में जल प्रवाहित होकर आने वाले शवों का दाह संस्कार किया गया था। पूर्वांचल के कई जिलों में गंगा में प्रवाहित लाशों के मिलने के बाद जिला प्रशासन ने जल प्रवाह पर रोक लगाने के लिए जगह-जगह पुलिस को तैनात किया है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो को संज्ञान में लेते हुए एसपी विपिन टाडा ने 5 पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया है। इस मामले की आगे की जांच एएसपी बलिया को सौंपी गई हैं।