एटा जिले में अमानवीय कृत्य, इलाज के दौरान 85 साल के बुजुर्ग को पुलिस ने बेड़ियों के साथ बेड से बांधा


एटा। एटा जिला कारागार में सजा काट रहे 85 वर्षीय कैदी के जेल प्रहरियों ने इलाज के दौरान पैर में बेड़ियां डाल दी। वृद्ध को कई दिनों से सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। वृद्ध का चार दिनों से महिला जिला चिकित्सालय में इलाज चल रहा था। पुलिस कर्मी वृद्ध को बेड से बांधकर बाहर घूमने चले जाते थे।
मिली जानकारी के अनुसार, ताजा मामला कोतवाली नगर क्षेत्र के महिला जिला अस्पताल में बने नॉन कोविड विंग का है। यहां पर चार दिन पूर्व जिला कारागार एटा से बाबूराम को सांस लेने में दिक्कत होने पर उपचार के लिए भर्ती कराया गया था। ड्यूटी पर तैनात बंदी प्रहरी उपचार के दौरान वृद्ध के पैरों में बेड़ियां डालकर कर हॉस्पिटल के बेड से ही बांध दिया करते थे और बाहर घूमने चले जाते थे।
कैदी बाबूराम हत्या और अपहरण के मामले में एटा जिला कारागार में आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं। बुजुर्ग के पैर में बेड़ियां बधी होने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद जेलर एटा ने तत्काल बुजुर्ग के पैर से बेड़ियां खुलवायीं और इस मामले में संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की।
डीजी जेल आनंद कुमार ने घटना का संज्ञान लेते हुए तत्काल जेल वार्डर अशोक यादव को निलंबित कर दिया और घटना के दोषी पर्यवेक्षणीय अधिकारी से स्पष्टीकरण मागंते हुए ये साफ कर दिया कि इस अमानवीय कृत्य के लिए दोषी अधिकारी कर्मचारी को माफ नहीं किया जाएगा।