कोतवाली पुलिस ने आक्सीजन रेगुलेटर किट की कालाबाजारी करने वाले दो आरोपितों को किया गिरफ्तार


गाजियाबाद ब्यूरो। नगर कोतवाली पुलिस ने आक्सीजन रेगुलेटर किट की कालाबाजारी करने वाले दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। वे एक हजार रुपये की आक्सीजन रेगुलेटर किट को 6800 रुपये में बेच रहे थे। पकड़ा गया एक आरोपित दवा कारोबारी है। वह हिस्ट्रीशीटर भी है और उसके खिलाफ कई थानों में विभिन्न धाराओं में मामले दर्ज हैं। नगर कोतवाली प्रभारी संदीप सिंह ने बताया कि पकड़े गए आरोपित नई बस्ती में सेंट्रल सर्जिकल के नाम से दवा का कारोबार करने वाला संजय सूरी व उसकी महिला साथी चंद्रपुरी निवासी पायल सिसौदिया हैं। संजय सूरी पर सिहानी गेट, कविनगर और नगर कोतवाली आठ आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें छेड़छाड़, मारपीट और धोखाधड़ी के मामले शामिल हैं। पूर्व में सिहानी गेट पुलिस संजय सूरी की हिस्ट्रीशीट भी खोल चुकी है। संजय सूरी का नाम बीते दिनों दुष्कर्म के मामले में भी सामने आया था। 
दुष्कर्म का यह केस दर्ज होने के बाद संजय सूरी घर से फरार हो गया था। हालांकि बाद में यह झूठा पाए जाने पर पुलिस ने इस मामले को खत्म कर दिया था। संदीप सिंह ने बताया कि वसुंधरा निवासी सत्यपाल सिंह ने रविवार को दोनों आरोपितों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। रिपोर्ट में सत्यपाल सिंह का आरोप है कि उनके दोस्त अरविद कुमार के रिश्तेदार की तबीयत खराब है। इसके लिए उन्होंने अरविद को नई बस्ती स्थित सेंट्रल सर्जिकल नाम की दुकान पर आक्सीजन रेगुलेटर किट लेने भेजा था। आरोप है कि संजय सूरी व पायल ने उन्हें 6850 रुपये में आक्सीजन रेगुलेटर किट देने की बात कही। जब उन्होंने कालाबाजारी का विरोध किया तो संजय सूरी ने कहा कि उन्हें लेना हो तो लो वरना चलते बनो। इस पर अरविद ने संजय सूरी से सत्यपाल सिंह की फोन पर बात भी कराई, लेकिन संजय ने कम दाम पर आक्सीजन रेगुलेटर किट देने से साफ इन्कार कर दिया। मजबूरन अरविद को 6500 सौ रुपये में यह किट खरीदनी पड़ी। उन्होंने दुकानदार का वीडियो भी बना लिया। इसके आधार पर सत्यपाल सिंह ने दुकानदार और उसकी महिला साथी के खिलाफ नगर कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई थी।