दिल्ली के हर्ष विहार में झाड़ू-पोछा करने वाली ने करवाया प्रसव, समय से पूर्व पैदा हुए जिंदा बच्चे को कूड़ेदान में डाला


उत्तर पूर्वी दिल्ली। जिले के हर्ष विहार इलाके में इंसानियत को शर्मसार करने वाली एक घटना सामने आई है। झाड़ू-पोछा करने वाली एक महिला ने खुद को डॉक्टर बताकर एक गर्भवती महिला का प्रसव करा दिया। इस दौरान गर्भवती की मौत हो गई। वहीं, आरोपी महिला ने समय पूर्व जन्मे छह माह के बच्चे को जिंदा ही कूड़ेदान में डाल दिया। 
पुलिस मौके पर पहुंची और खुद को डॉक्टर बताकर प्रसव कराने वाली आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी की पहचान रेखा (47) के रूप में हुई है। वारदात के बाद इसका सहयोगी फरार हो गया। पुलिस ने रेखा के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर उसे कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। पुलिस फरार आरोपी की तलाश कर रही है।
संध्या (35) परिवार के साथ ए-ब्लॉक, प्रताप नगर, सबोली, हर्ष विहार में रहती थी। इसके परिवार में पति अर्जुन के अलावा चार और तीन साल की दो बेटियां हैं। अर्जुन एनडीएमसी में नौकरी करता है। संध्या छह माह की गर्भवती थी। उसका स्वामी दयानंद अस्पताल में इलाज भी चल रहा था। शनिवार को अचानक संध्या की तबीयत बिगड़ी तो अर्जुन उसे पास में एक क्लीनिक पर ले गया। खुद को महिला डॉक्टर बताने वाली महिला ने चार-पांच दिन पूर्व ही क्लीनिक खोली थी। संध्या को देखने के बाद आरोपी महिला रेखा ने कहा कि वह उसके लिए घर से चाय ले आए। अर्जुन पत्नी को अंदर स्ट्रेचर पर लिटाकर चाय लेने घर चला गया। कुछ देर बाद वह चाय लेकर पहुंचा तो उसने पत्नी से मिलने की बात की तो रेखा ने इनकार कर दिया। उसने कहा कि एंबुलेंस बुलाई है, संध्या को अस्पताल ले जाना है। रेखा काफी घबराई हुई थी।
शक होने पर अर्जुन जबरन अंदर घुसा तो देखा कि उसकी पत्नी खून से लथपथ अंदर स्ट्रेचर पर मृत पड़ी थी। घटना का पता चलते ही हंगामा हो गया। मामले की सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस मौके पर पहुंची तो वहीं कूड़ेदान से समय से पूर्व एक बच्चा मिला, जिसमें सांसें थी। रेखा को गिरफ्तार कर लिया गया। उसने बताया कि महिला की प्रसव के दौरान मौत हो गई तो घबरा गई। उसने बच्चे को भी कूड़ेदान में डाल दिया।
जांच के दौरान पुलिस को पता चला है कि आरोपी रेखा मीट नगर में एक डॉक्टर के पास झाड़ू-पोछा करती थी। अब उसने प्रताप नगर में खुद को डॉक्टर बताकर अपनी क्लीनिक भी खोल ली थी। संध्या के परिजनों का आरोप है कि रेखा का सहायक उनके 34 हजार रुपये और उसके कागजात लेकर फरार है। पुलिस ने सोमवार को संध्या और बच्चे का पोस्टमार्टम कराकर शव परिवार को सौंप दिया। फरार आरोपी की तलाश की जा रही है।
जांच के दौरान पुलिस को पता चला है कि आरोपी रेखा मीट नगर में एक डॉक्टर के पास झाड़ू-पोछा करती थी। अब उसने प्रताप नगर में खुद को डॉक्टर बताकर अपनी क्लीनिक भी खोल ली थी।