मथुरा के दाऊजी मंदिर में शराबियों ने फेंकी शराब की बोतलें, पुजारियों ने भागकर बचाई जान


  • बारातियों ने नशे में धुत होकर दाऊजी मंदिर में खाली शराब की बोतले फेंकी
  • ग्रामीणों ने पुलिस से असामाजिक तत्वों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की
  • पुलिस का कहना-कोई आपत्ति दर्ज कराई जाती है तो वैधानिक कार्रवाई की जाएगी
मथुरा। उत्तर प्रदेश के मथुरा बुधवार रात आई एक बारात में शामिल कुछ बारातियों ने नशे में धुत होकर दाऊजी मंदिर में खाली शराब की बोतले और ईंट-पत्थर भी फेंके। कांच टूटने और ईंट-पत्थरों की आवाज सुनकर पुजारियों की नींद खुली तो उन्होंने शोर मचाया। जिसके बाद मौके पर गांव के कुछ लोग भी इकट्ठा हो गए और पुलिस को इसकी सूचना दी।
मामला थाना हाईवे क्षेत्र के गांव तारसी का है। गांव में आई बारात में शामिल कुछ बारातियों ने नशे में धुत होकर श्री दाऊजी महाराज मंदिर (बलभद्र मंदिर ) में शराब की खाली बोतलें और ईंट फेंकना शुरू कर दिया। मंदिर में ईंट फिंकता देख मंदिर में सो रहे पुजारियों में हड़कंप मच गया। जैसे-तैसे पुजारियों ने छिपकर अपनी जान बचाई। ग्रामीणों ने पुलिस से असामाजिक तत्वों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
वहीं, बलभद्र मंदिर के महंत प्रिया दास बाबा ने आरोप लगाते हुए कहा कि जाटव समाज के लोगों की बरात गांव तारसी में आई हुई थी। बाराती शराब के नशे में धुत थे। एक दूसरे के साथ गाली गलौज कर रहे थे और मंदिर पर उन्होंने शराब की बोतल फेंकना शुरू कर दिया। हम लोगों ने मंदिर में छुप कर अपनी जान बचाई। महंत ने कहा कि गांव के पूर्व प्रधान पप्पी के यहां बरात आई थी। बरात में शामिल असामाजिक तत्वों ने इस घटना रात करीब 12 बजे अंजाम दिया।
वहीं, सीओ रिफाइनरी अभिषेक तिवारी ने बताया कि मंदिर के सामने कुछ लोग बैठे हुए थे। मंदिर के सामने बारात आई तो पहले से बैठे लोगों ने बारातियों पर तंज कर दिया। इसको लेकर दोनों पक्षों में ईट-पत्थर चल गए। मामले को दोनों पक्षों द्वारा वहीं बैठकर सुलझा लिया गया है, अगर फिर भी किसी की तरफ से कोई आपत्ति दर्ज कराई जाती है तो वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।