मास्क पर चालान काटने में बवाल,पहले पुलिस ने प्रधान पुत्रों को पीटा,फिर भीड़ ने पुलिस वालों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा


कानपुर ब्यूरो। कानपुर में गुरुवार शाम एक शराब ठेके के बाहर जमकर बवाल हुआ। घाटमपुर के श्रीनगर गांव में कुछ ऐसा हुआ कि पुलिसकर्मी भीड़ से बचकर भागते हुए नजर आए। इतना ही नहीं ग्रामीणों ने पुलिस कर्मियों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। इसके साथ ही एक सिपाही की वर्दी भी फाड़ दी। मौके पर पहुंची सर्किल फोर्स ने लाठियां पटक कर ग्रामीणों को खदेड़ दिया। पुलिस ने फिलहाल दो लोगों को अरेस्ट किया है।
घाटमपुर कोतवाली क्षेत्र स्थित श्रीनगर गांव के बाहर शराब का ठेका है। श्रीनगर गांव के नवनिर्वाचित प्रधान महादेव शंखवार पुलिस विभाग से सब इंस्पेक्टर के पद से रिटायर्ड हैं। महादेव शंखवार के दोनों बेटे शराब ठेके के बाहर अपने चार साथियों के साथ बिना मास्क लगाए खड़े थे। इसी दौरान जाजपुर चौकी के कार्यवाहक चौकी इंचार्ज मो. इरफान सिपाहियों के साथ जीप से पहुंच गए। चौकी इंचार्ज ने बिना मास्क के खड़े युवकों को फटकार लगानी शुरू कर दी। इसके साथ प्रधानपुत्रों समेत उनके साथियों का चालान काटने लगे।
पुलिस कर्मी जब प्रधानपुत्रों का चालान काटने लगे तो दोनों के बीच बहस शुरू हो गई। पुलिस कर्मियों ने प्रधान के दोनों बेटों की पिटाई शुरू कर दी। प्रधानपुत्रों को पिटता देख ग्रामीणों की भीड़ इकट्ठा होने लगी। इसके बाद उग्र भीड़ ने पुलिस कर्मियों को पीटना शुरू करना कर दिया। भीड़ ने सिपाहियों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। पुलिस कर्मी खेतों से भागकर जान बजाई।
कई बार हो चुका है विवाद
पुलिस कर्मियों ने घाटमपुर कोतवाली को घटना की सूचना दी। इसके बाद घाटमपुर सर्किल फोर्स मौके पर पहुंची और लाठी पटक कर ग्रामीणों को खदेड़ दिया। ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस कर्मियों ने अभद्रता की थी। पुलिस हमेशा शराब ठेके में आकर ग्रामीणों का चालान काटती है। इससे पहले भी पुलिस से कई बार विवाद हो चुका है।
सीओ घाटमपुर पवन गुप्ता का कहना है कि जिन्होंने ने पुलिस कर्मियों पर हमला किया है। उनको चिह्नित कर सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही ग्रामीणों के आरोपों की भी जांच कराई जाएगी।