कंटेनमेंट जोन में जबरन बैरिकेडिंग हटा कर फंसे सीएम नीतीश के विधायक गोपाल मंडल, एफआईआर दर्ज


भागलपुर,(बिहार)। भागलपुर में नवगछिया स्टेशन के पास बनाए गए कंटेनटमेंट जोन को लेकर लगाए गए बैरिकेडिंग को सीएम नीतीश के दुलारे विधायक गोपाल मंडल जबरन हटाकर फंस गए हैं। इस मामले को जिला प्रशासन ने गंभीरता से लेते हुए गोपालपुर विधानसभा से जदयू के विधायक नरेंद्र कुमार नीरज उर्फ़ गोपाल मंडल समेत तीन अज्ञात लोगों के विरुद्ध नवगछिया थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।
इस बारे में नवगछिया के थाना अध्यक्ष राजकुमार सिंह ने कहा कि नवगछिया के प्रखंड विकास पदाधिकारी और नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी के जांच रिपोर्ट के आधार पर विधायक के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है। उन्होंने कहा कि प्राथमिकी के सूचक नवगछिया नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी संजीव कुमार सुमन है।
थाना अध्यक्ष की मानें तो बैरिकेडिंग हटाने के मामले में दर्ज की गयी प्राथमिकी में भारतीय दंड विधान संहिता की धारा 188, 269, 270, 271/34, 51 और डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 के तहत मामला दर्ज किया गया है। थाना अध्यक्ष राजकुमार सिंह ने कहा कि इस मामले में वीरेंद्र कुमार को अनुसंधान की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं दूसरी ओर इस बारे में भागलपुर के डीआईजी सुजीत कुमार ने कहा कि नियम सबके लिए समान है। इसलिए सभी को इसका पालन करना चाहिए।
कंटेनटमेंट जोन में लगाए गए बैरिकेटिंग हटाने पर विधायक गोपाल मंडल ने कहा कि वहां बैरिकेटिंग की कोई जरूरत ही नहीं थी। अगर प्रशासन ने लगायी भी तो वहां एक सिपाही को रखना था, जो बैरिकेटिंग को जरूरत के समय हटाते। लेकिन वहां कोई नहीं था। इसलिए उन्होंने उसे खुद हटाया। विधायक ने कहा कि वह सेनापति हैं, राजा है, सामने से नेतृत्व करते हैं। लड़ाकू किस्म का होने के कारण उन्होंने खुद से बैरिकेटिंग हटाया वर्ना आम लोगों पर या कार्यकर्ताओं पर तो कार्रवाई हो जाती। उन्होंने कहा कि समय आने पर वह खुद रायफल और बंदूक के साथ मौके पर पहुंचने वाले आदमी हैं।