मोदीनगर और मुरादनगर में सबसे अधिक कंटेनमेंट जोन, प्रशासन की तरफ से लगातार निगरानी


गाजियाबाद ब्यूरो। कोरोना संक्रमण का मामला अभी बढ़ता ही जा रहा है। पिछले साल प्रशासन ने शहर में सबसे अधिक कंटेनमेंट जोन बनाए थे, लेकिन इस बार ग्रामीण एरिया में इसकी संख्या अधिक है। आंकड़ों को देखा जाए तो मोदीनगर में सबसे अधिक 401 कंटेनमेंट जोन है, जबकि मुरादनगर में 347 कंटेनमेंट जोन हैं, जबकि यदि एक्टिव केस की बात करें तो इंदिरापुरम में 2093 ऐक्टिव केस हैं। यहां की आम्रपाली सोसायटी में 300 से अधिक कोरोना संक्रमित होने का मामला इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है।
कौशांबी 1021 एक्टिव केस के साथ दूसरे नंबर पर बना हुआ है। यदि शहर की बात करें तो विजयनगर एरिया में सबसे अधिक कंटेनमेंट जोन हैं, जबकि एक्टिव केस के मामले में यह 5वें स्थान है। यहां पर 881 एक्टिव केस हैं। अधिकारियों का कहना है कि ग्रामीण क्षेत्र में बसावट दूर-दूर होने की वजह से कंटेनमेंट जोन अधिक बनाए गए हैं, जबकि शहर एरिया में बसावट घनी होने की वजह से कंटेनमेंट जोन कम है, जबकि केस ज्यादा हैं। अधिकारियों ने बताया कि 3 मई तक 8442 ऐक्टिव केस जिले में थे, जबकि 1470 कंटेनमेंट जोन के अलावा 42 क्लस्टर जोन बनाए गए हैं।
ट्रांस हिंडन एरिया में ज्यादा है मामले
प्रशासन के आंकड़े को देखा जाए तो ट्रांस हिंडन एरिया में कोरोना संक्रमण के अधिक मामले आ रहे हैं। इंदिरापुरम में 2093, कौशांबी में 1021, साहिबाबाद में 962 में सबसे अधिक मामले आ रहे हैं। जानकारों का कहना है कि ट्रांस हिंडन एरिया के लोगों का दिल्ली की तरफ आवागमन बहुत अधिक है। इस वजह से वहां पर संक्रमण के मामले बहुत अधिक पाए जा रहे हैं।
लोनी में अधिक कलस्टर जोन
लोनी थाना एरिया में प्रशासन के आंकड़े के अनुसार, सबसे अधिक नौ कलस्टर जोन हैं, जबकि यहां पर लोनी के कुछ खास हिस्से में 128 केस पाए गए हैं। अधिकारी बताते हैं कि 5 से अधिक घरों में संक्रमण मिलने पर इलाके को क्लस्टर जोन घोषित किया जाएगा, जबकि इंदिरापुरम और विजयनगर में 8-8 कलस्टर जोन बनाए गए हैं। इस पर अधिकारी को विशेष नजर रखनी होती है।
ट्रांस हिंडन में सबसे अधिक सीलिंग
कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए ट्रांस हिंडन एरिया में सबसे अधिक अभी तक सीलिंग की कार्रवाई हुई है। इंदिरापुरम में 212 सोसायटियों को सील किया जा चुका है, जबकि अभी तक इसमें से 118 को डीसीलिंग भी की जा चुकी है। कौशांबी में 106 में सीलिंग करने के बाद 91 को डीसीलिंग किया गया है।
साहिबाबाद में 182 एरिया को सील किए जाने के बाद 72 को अभी तक डीसीलिंग की गई है। यदि सिटी एरिया की बात करें तो यहां पर सीलिंग की कार्रवाई कम हुई है। विजयनगर और कोतवाली थाना क्षेत्र में 20-20 एरिया को सील किया गया है।
थानावार ऐक्टिव केस
कविनगर में- 846, सिहानी गेट में- 319, विजयनगर में- 881, नंदग्राम में-333, कोतवाली में- 283 ऐक्टिव केस हैं। मसूरी में 89, लिंक रोड 148, लोनी बार्डर 70, खोड़ा 79 के अलावा अन्य थानों में ऐसे ही ऐक्टिव केस हैं।