कृष्णा नगर में नकली रेमेडेसीवर इंजेक्शन बेचने वाले गैंग का भंडाफोड़, दो आरोपी गिरफ्तार


राजीव गौड़,(दिल्ली ब्यूरो)। शाहदरा जिला की कृष्णा नगर थाना पुलिस ने नकली रेमेडेसीवर इंजेक्शन बेचने वाले गैंग का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने इस गैंग में शामिल दो लोगों को गिरफ्तार कर सात नकली रेमेडेसीवर इंजेक्शन बरामद किए हैं। डीसीपी आर साथिया सुंदरम ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी की पहचान राहुल शर्मा और कुलदीप के तौर पर हुई है। राहुल शर्मा कालकाजी इलाके का रहने वाला है जबकि कुलदीप पहाड़गंज का निवासी है। तीन मई को हिंदुस्तान लीवर लिमिटेड के कर्मचारी अजय गोयल को अपने एक कोरोना संक्रमित मरीज़ के लिए चार रेमेडेसीवर इंजेक्शन की जरूरत थी। उन्होंने राहुल नाम के शख्स से संपर्क किया. राहुल ने चार इंजेक्शन एक लाख 40 हजार में दिए। अजय गोयल जब इंजेक्शन लेकर अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टर ने बताया कि इंजेक्शन नकली हैं। जिसके बाद उन्होंने कृष्णा नगर थाने में शिकायत दर्ज कराई। मामले की जांच के लिए इंस्पेक्टर राजकुमार साह के नेतृत्व में हेड कांबल जगन्नाथ और हेड कॉन्स्टेबल अमित का गठन किया गया।
टीम ने आरोपी को पकड़ने के लिए जाल बिछाया। अजय गोयल से आरोपी को फोन करा कर एक बार फिर इंजेक्शन की डिमांड की गई। इंजेक्शन देने के लिए आरोपी ने अजय गोयल को कृष्णा नगर लाल क्वार्टर के पास बुलाया. जैसे ही राहुल शर्मा इंजेक्शन लेकर पहुंचा पुलिस ने उसे दबोच लिया. उसके बाद उसके बाद उसके साथी कुलदीप को भी गिरफ्तार कर लिया गया। इनके पास से सात नकली रेमेडेसीवर इंजेक्शन एक लाख 40 हजार कैश, एक कार और एक बाइक बरामद हुई है। पूछताछ में पता चला है कि राहुल शर्मा डीटीसी क्लस्टर बस में डिप्टी मैनेजर है। जबकि कुलदीप मेडी मार्ट प्राइवेट लिमिटेड में मार्केटिंग सेल्समैन है।