कानपुर पुलिस और क्राइम ब्रांच ने नकली नोटों का कारोबार करने वाले गिरोह का किया पर्दाफाश


  • असली और नकली नोटों के बीच का फर्क करना मुस्किल
  • पुलिस ने दो आरोपियों को अरेस्ट किया
  • लंबे समय से इस काम को अंजाम दे रहे थे
कानपुर ब्यूरो। कानपुर की नौबस्ता पुलिस और क्राइम ब्रांच ने मिलकर नकली नोटों का कारोबार करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। इस गिरोह के सदस्य कलर प्रिंटर से 500 के नोटों की कॉपी करते थे। इसके बाद नकली नोटों को मार्केट में खपाते थे। पुलिस ने दो आरोपियों को अरेस्ट किया है। इनके पास से 500-500 नोटों के दो लाख चार हजार रुपए बरामद हुए हैं। इन नकली नोटों को इतनी सफाई से तैयार किया गया है कि असली और नकली नोटों के बीच का फर्क करना मुस्किल है।
कानपुर पुलिस को नकली नोटों के व्यापार की शिकायत मिल रही थी। इसके साथ ही यह गिरोह लोगों को ठगने का भी काम कर रहा था। क्राइम ब्रांच ने नौबस्ता पुलिस के साथ मिलकर बिहार निवासी राम कुमार चौबे और अशोक सिंह को अरेस्ट किया है। इनके पास से बड़ी संख्या में नकली नोटों की जखीरा बरामद हुआ था।
नकली नोटों को मार्केट में खपाते थे आरोपी
क्राइम ब्रांच ने इन आरोपियों के पास से जो नोट बरामद किए हैं, यह बिल्कुल असली नोटों के तरह हैं। इनको आसानी से नहीं पहचाना जा सकता है। आरोपी मार्केट में खरीदारी कर नोटों को खपाते थे। इसके साथ ही भोले-भाले लोगों को अपने जाल में फंसा कर नकली नोट देते थे और उनसे असली नोट ले लेते थे।
कलर प्रिंटर से निकालते थे नकली नोट
पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने बताया कि दो आरोपियों को नकली नोटों के साथ अरेस्ट किया गया है। यह लोग कलर प्रिंटर से नोट बनाते थे और लोगों से ठगी भी करते थे। लंबे समय से इस काम को अंजाम दे रहे थे। दोनों के खिलाफ केस दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है।