कानपुर में जींस टीशर्ट पहनकर मांगती थीं 200 रुपये की भीख, होटल में ठहरती थीं, 8 महिलाएं गिरफ्तार


कानपुर ब्यूरो। कानपुर पुलिस ने भीख मांगने वाली ऐसी 8 महिलाओं को अरेस्‍ट किया है जो जींस टीशर्ट पहनकर भीख मांगती थीं। इनका गिरोह शाम को मंहगे होटलों में रुकता था। इतना ही नहीं यह गैंग टप्‍पेबाजी की वारदातों में भी श‍ामिल पाया गया। जींस, टीशर्ट जैसे आधुनिक कपड़े पहनने के पीछे भी इन्‍होंने अनोखी वजह बताई। इनका यह गिरोह कई राज्‍यों में सक्र‍िय है।
कानपुर कमिश्नरेट पुलिस भिक्षावृति के खिलाफ अभियान चला रही है। बच्चों से भीख मंगवाने वाले ठेकेदारों को दबोचा जा रहा है, उनपर गैंगेस्टर की तहत कार्रवाई की जा रही है। मंगलवार रात काकादेव थाना क्षेत्र स्थित देवकी टॉकीज चौराहे पर 5 से 10 महिलाएं बच्चों को लेकर कार रोक कर भीख मांग रहीं थीं। महिलाएं कारों को रोक कर 200 रुपए की भीख देने का दबाव बना रहीं थी। पुलिस को इसकी भनक लगी तो मौके पर पहुंचकर आठ महिलाओं को दबोच लिया।
पुलिस की पूछताछ में पता चला कि महिलाएं मूलरूप से राजस्थान की रहने वाली हैं। सभी महिलाएं घुमंतु जाति की हैं। महिलाओं ने बताया कि घाघरा-चोली इस लिए नहीं पहनते हैं कि लोग उन्हे बच्चा चोर समझने लगते हैं। कई बार उनकी पिटाई भी हो चुकी है। सभी महिलाएं 20 साल से गुजरात के अहमदाबाद में रह रहीं हैं।
भिक्षावृति करने वाली महिलाओं ने बताया कि जींस टीशर्ट पहनने से लोग भीख आसानी से दे देते हैं। महिलाएं दिन भर कमाने के बाद होटल में ठहरती थीं। पुलिस ने पकड़ी गईं महिलाओं पर भिक्षावृति अधिनियम के तहत कार्रवाई की है। पुलिस ने महिलाओं की पहचान गुजरात पुलिस से भी कराई है।