'गुडवर्क' के लिए मिला था 25 हजार का इनाम, फिर क्यों लाइन हाजिर हुए कोतवाल?


अयोध्या। उत्तर प्रदेश के अयोध्या में जिस कोतवाल को अच्छे काम के लिए 25 हजार का इनाम दिया गया था, उसे लाइन हाजिर किया गया है। इतना ही नहीं, उन्हें नगर कोतवाली से हटाकर पुलिस लाइन भेज दिया गया है। शहर में इसे लेकर काफी चर्चा है। माना जा रहा है कि बीजेपी कार्यकर्ता अमित मौर्या के आत्महत्या मामले में कोतवाल नगर नीतीश कुमार को हटाया गया है।
सोमवार को कोतवाल नगर नीतीश श्रीवास्तव के नेतृत्व में एसओजी और कोतवाली नगर पुलिस की संयुक्त टीम ने चोरी की 25 गाड़ियां बरामद की थीं। इस गुडवर्क को सराहनीय बताते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार पांडेय ने कोतवाल नगर नितीश श्रीवास्तव की न केवल पीठ थपथपाई थी बल्कि टीम को 25 हजार रुपए का इनाम भी दिया था। मंगलवार को अचानक कोतवाल नगर नितीश श्रीवास्तव को लाइन हाजिर कर दिया गया।
इसके अलावा एसएसपी शैलेश कुमार पांडे ने 3 निरीक्षकों के कार्य क्षेत्र में फेरबदल में भी किए हैं। उनकी जगह पर थाना कैंट प्रभारी निरीक्षक सुरेश कुमार पांडे को नगर कोतवाल बनाया गया है। वहीं अरुण प्रताप सिंह को पुलिस लाइन से हटाकर प्रभारी निरीक्षक थाना कैंट बनाया गया है।
महकमे के आला हाकिम की इस कार्रवाई से भीतरखाने की चर्चा गर्म है। माना जा रहा है कि बीजेपी कार्यकर्ता अमित मौर्या के आत्महत्या प्रकरण में कोतवाल नगर नितीश श्रीवास्तव को हटाया गया है लेकिन अभी तक इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। ऐसी संभावनाएं भी बहुत कम हैं क्योंकि प्रकरण की जांच में दोषी पाए गए पुलिस कर्मियों पर प्रथम दृष्टया कार्रवाई की जा चुकी थी। ऐसी स्थिति में सराहनीय गुडवर्क के बाद भी कोतवाल नगर नितीश श्रीवास्तव को लाइन हाजिर क्यों किया गया, यह बड़ा सवाल है?

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर