कृषि कानून के विरोध में किसान करेंगे 26 जून को चंडीगढ़ में राजभवन का घेराव


जींद (हरियाणा)। हरियाणा में भाजपा-जजपा विधायकों के घेराव के बाद अब किसान 26 जून को चंडीगढ़ में राजभवन का घेराव करेगें और राज्यपाल के माध्यम से राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौपकर कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग करेगें। किसान नेता मॉ. बलवीर सिंह ने यह जानकारी देते हुए दावा किया है कि नरवाना क्षेत्र से भारी संख्या में किसान राजभवन का घेराव करने के लिए जाएगें। उन्होने यह भी बताया कि इससे पहले 14 जून को प्रदेश भर मे किसान धरना स्थलों पर सिख पंथ के गुरू अर्जुन देव का शहादत दिवस मनाकर एकता का परिचय देगें।
रविवार को भी बदोवाल टोल प्लाजा पर 171 वें दिन भी किसानों का धरना जारी रहा। उसमें इस्माइलपुर , खानपुर ,खरड़वाल ,ढाबी टेकसिंह , नारायणगढ़ ,रेवर ,डूमरखां कलां एवं खुर्द ,झील तथा आस पास के अनेक गाँवों के किसान पहुचें। सिंह ने कहा कि किसान प्रकृति की हर मार को झेलता हुआ अपने लक्ष्य की ओर बढ़ रहा है और जब तक आंदोलन को जीत नही लेते तब तक इसी प्रकार डटे रहेगें। उन्होने बताया कि 26 जून को किसान आंदोलन को लगातार सात महीने हो जाएगे और हर राज्य की राजधानी में राज्यपाल को अपनी मागों को लेकर ज्ञापन सौपा जाएगा।
उन्होंने कहा कि सरकार को जल्द से जल्द से किसानों की मांगें मान लेनी चाहिए और कृषि बिलों को रद्द करना चाहिए। उन्होने आह्वान किया कि 26 जून को भारी संख्या में किसान राजभवन का घेराव करने पहुचें।