गाजियाबाद में भूमाफियाओं ने 4.5 करोड़ में बेच दिए नगर निगम के दो पार्क


सूर्य प्रकाश,(गाजियाबाद)। विजयनगर जोन की सुदामापुरी कॉलोनी में भूमाफियाओं ने अपनी जमीन बताकर करीब 4.5 करोड़ रुपये में नगर निगम के दो पार्कों बेच दिए। इन पार्कों की जमीन पर प्लॉटिंग कर लोगों को 20 से 30 हजार रुपये प्रति वर्ग गज में बेच दिए। एक पार्क में 10 और दूसरे पार्क में 7 पक्के निर्माण कर मकान और दुकानें बना ली हैं। पार्क की जमीन पर ही लोगों ने धार्मिक स्थल भी बना लिया है।
नगर निगम ने वर्ष 2000 से 2005 के बीच विभिन्न स्थलों से झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले लोगों को विस्थापित किया था। इनमें से सैकड़ों की संख्या में परिवारों को सुदामापुरी में भी प्लॉट दिए गए थे। नगर निगम ने यहां दो पार्कों के लिए जमीन छोड़ी थी। इसमें एक पार्क की जमीन करीब 1400 वर्ग मीटर और दूसरे की करीब 800 वर्ग मीटर जमीन है। नगर निगम ने इन पार्कों को विकसित न भूमाफियाओं की नजर इन पर टिक गई। उन्होंने अपनी जमीन बताकर यहां प्लॉटिंग कर दी और पार्क की जमीन को 20 से 30 हजार रुपये प्रति वर्ग गज की दर से लोगों को बेच दिया। अब स्थानीय लोगों की शिकायत पर नगर निगम ने जांच कराई तो पार्कों की जमीन बेचने का मामला उजागर हुआ। नगर निगम ने इस मामले में जांच कराई है, जिसमें पार्कों की जमीन को बेचने और उस पर मकान व पक्की दुकानें बना लिए जाने की पुष्टि हुई है।
एक पूर्व पार्षद का नाम भी आया सामने
पार्क की जमीन बेचने में कई लोगों के नाम जांच में सामने आए हैं। इनमें सपा के एक पूर्व पार्षद और उसके कुछ साथियों का नाम भी सामने आया है। निगम अधिकारियों का कहना है कि सपा नेता ने अपने साथियों से रजिस्ट्री और एग्रीमेंट कर सरकारी जमीन पर कब्जे कराए गए हैं।
संपत्ति विभाग ने लगाए लाल निशान, टूटेंगे मकान
नगर निगम के संपत्ति विभाग ने पार्कों की जमीन पर कब्जे करके बनाए गए मकानों और दुकानों पर लाल निशान लगवा दिए हैं। नगर निगम जल्द ही अभियान चलाकर इन मकानों और दुकानों के ध्वस्तीकरण की कार्रवाई करेगा। निगम की इस कार्रवाई की आशंका के चलते यहां रहने वाले लोग टेंशन में हैं। उनकी खून-पसीने की कमाई अब डूबती नजर आ रही है।
शिकायत पर मामले की जांच कराई गई है। निगम के दो पार्कों की जमीन पर लोगों ने प्लॉटिंग करके बेच दिया है। इसमें कुछ मकान करीब पांच साल पहले बन चुके हैं और कुछ तीन साल पहले बनाए गए हैं। सरकारी जमीन पर बने मकानों और दुकानों को चिह्नित कर लिया गया है। जल्द ही ध्वस्तीकरण की कार्रवाई की जाएगी। - महेंद्र सिंह तंवर, नगरायुक्त