राजधानी दिल्ली में चल रहा था धर्मांतरण का काला कारोबार, यूपी एटीएस का बड़ा खुलासा


दिल्ली ब्यूरो। यूपी एटीएस के द्वारा धर्मांतरण के बड़े रैकेट का खुलासा किया गया हैं। जिसका तार राजधानी दिल्ली से भी जुड़ता हुआ दिख रहा है, यूपी एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया हैं कि दिल्ली के जामिया नगर के रहने वाले दो मौलानाओं को गिरफ्तार किया गया है। मामला जामिया नगर इलाके के उसी जगह की जहां मोहम्मद उमर गौतम चौथे फ्लोर पर रहता था, वहीं दूसरा मामला इस्लामिक दवाह सेंटर की है, जहां से धर्मांतरण के इस पूरे रैकेट को ऑपरेट किया था। जानकारी के अनुसार यूपी एटीएस धर्मांतरण के मामले में जांच कर रही थी। इसी मामले में पुलिस ने जामिया नगर के रहने वाले 2 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान जहांगीर और उमर गौतम के रूप में हुई हैं।
इनसे पूछताछ में खुलासा हुआ है कि जामिया नगर में स्थित ऑफिस से यह लोग धर्मांतरण कर रहे थे, पुलिस ने बताया है कि अब तक ए लोग 1000 लोगों को धर्मांतरण करा चुके है। धर्मांतरण में विदेशी फंडिंग की भी बात सामने आई हैं प्रलोभन देकर धर्मांतरण को अंजाम दिया जाता है।
यूपी एटीएस के द्वारा धर्मांतरण मामले में जिस उमर गौतम को गिरफ्तार किया गया है, वे दिल्ली के बटला हाउस इलाके के के-47 बिल्डिंग के फोर्थ फ्लोर पर रहते हैं, साथ ही जिस ऑफिस का खुलासा यूपी एटीएस के द्वारा किया गया है, वह ऑफिस दिल्ली के जामिया नगर इलाके के जोगाबाई एक्सटेंशन इलाके में स्थित है। जिसका नाम इस्लामिक दवाह सेंटर हैं। जिसका चेयरमैन उमर गौतम है। जिसको यूपी एटीएस के द्वारा धर्मांतरण के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।