मनसुख हत्या मामले में एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा गिरफ्तार, साजिश में शामिल होने और सबूतों को मिटाने का आरोप


  • एनआईए ने एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा गिरफ्तार किया
  • मनसुख हिरेन हत्याकांड मामले में हुई शर्मा की गिरफ्तारी
  • शर्मा पर सबूत मिटाने और साजिश में शामिल होने का है आरोप

कांती जाधव,(मुम्बई ब्यूरो)। पूर्व एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा को आखिरकार एनआईए ने गिरफ्तार कर लिया है। जानकारी के मुताबिक शर्मा पर मनसुख की हत्या की साजिश में शामिल होने और सबूतों को नष्ट करने करने का आरोप है। अदालत ने प्रदीप शर्मा को 28 जून तक एनआईए की कस्टडी में भेज दिया है।
मनसुख हिरेन हत्या मामले में पूर्व एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा पर एनआईए का शिकंजा कसता हुआ नज़र आ रहा है। जानकारी के अनुसार शर्मा के घर पर गरुवार की सुबह से एनआईए की टीम ने छापेमारी भी की थी। छापेमारी के बाद प्रदीप शर्मा को हिरासत में ले लिया गया था। एनआईए की टीम ने शर्मा के घर से प्रिंटर और कई इलेक्ट्रॉनिक गैजेट जब्त किये हैं।
सुबह से हो रही थी पूछताछ
सुबह से ही एनआईए की टीम शर्मा से पूछताछ में जुटी थी और इसी के आधार पर यह गिरफ़्तारी हुई है। इससे पहले एनआईए संतोष शेलार और आनंद जाधव को गिरफ्तार कर चुकी है। इस मामले में अब तक चार पुलिस अधिकारियों को बर्खास्त किया जा चुका है। इनमें सचिन वझे, सुनील माने, रियाज़ क़ाज़ी और कांस्टेबल विनायक शिंदे शामिल है।
मुकेश अंबानी के घर के पास विस्फोटक से लदी एसयूवी मिलने और उसके बाद कारोबारी मनसुख हिरन की कथित हत्या के मामले की जांच कर रहे राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण ने बुधवार को अदालत से बर्खास्त पुलिस अधिकारी सुनील माने की हिरासत मांगी। माने पूर्व पुलिस निरीक्षक है और अप्रैल में केंद्रीय एजेंसी ने उसे गिरफ्तार किया था। इस समय वह नवी मुंबई के तलोजा जेल में न्यायिक हिरासत में है।
हिरासत के लिए दायर अर्जी में एनआईए ने कहा कि वह माने को पिछले सप्ताह गिरफ्तार किए गए संतोष शेलार और आनंद जाधव से आमना-सामना करा पूछताछ करना चाहती है। अदालत इस अर्जी पर बृहस्पतिवार को सुनवाई करेगी। इस मामले में मुंबई पुलिस से बर्खास्त सहायक निरीक्षक सचिन वाजे मुख्य आरोपी है, जिसे गिरफ्तार किया जा चुका है। अबतक इस मामले में चार पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी हुई है।