दुबई एयरपोर्ट पर मोटी सैलरी पाने के लिए रेनू से बन गई आयशा अल्बी


शाहजहांपुर,(उत्तर प्रदेश)। धर्म परिवर्तन का मामला इन दिनों राष्ट्रीय स्तर पर एक बड़ा मुद्दा बन गया है। अब शाहजहांपुर में धर्म परिवर्तन का एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। यहां की रहने वाली एक युवती ने महज दुबई एयरपोर्ट पर नौकरी हासिल करने के लिए मुस्लिम धर्म अपना लिया। रेनू गंगवार नाम की युवती ने धर्म परिवर्तन करके दस्तावेजों में अपना नाम आयशा अल्बी करवा लिया।
युवती को बताया गया था कि किसी अन्य धर्म के बजाय मुस्लिम महिला को दुबई एयरपोर्ट पर मोटी सैलरी की नौकरी मिल सकती है। फिलहाल रेनू से आयशा बनी युवती अब दुबई जाने की तैयारी कर रही है। युवती का यह भी कहना है कि उसने अपना धर्म परिवर्तन अपनी मर्जी से करवाया है, ताकि दुबई जाकर वह अच्छा पैसा कमा सके। थाना तिलहर क्षेत्र के फरीदापुर गांव की रहने वाली रेनू गंगवार दिल्ली एयरपोर्ट पर एविएशन डिपार्टमेंट में काम करती है। रेनू को बताया गया था कि अगर वह मोटी सैलरी पर काम करना चाहती है तो दुबई एयरपोर्ट पर उसे नौकरी मिल सकती है। दुबई एयरपोर्ट पर मोटी सैलरी पर नौकरी पाने के लिए रेनू ने अपना धर्म परिवर्तन कर लिया।
27 मई 2021 को एक मौलवी से मिलकर रेनू ने धर्म परिवर्तन करके, दस्तावेजों में रेनू का नाम अब आयशा अल्बी हो गया है। मुस्लिम बनी युवती का कहना है कि दुबई में नौकरी करने के लिए मुस्लिम महिलाओं को वरीयता दी जाती है। यहां वो महज 20 हजार रुपये महीने की सैलरी पर नौकरी करती है, लेकिन दुबई एयरपोर्ट पर वो ढाई लाख रुपये महीने की सैलरी पर नौकरी कर सकेंगी। हलांकि, जब रेनू ने अपने फौज से रिटायर्ड पिता अनिल कुमार गंगवार से धर्म परिवर्तन करने की बात कही तो परिवार वालों ने इसका कड़ा विरोध किया, लेकिन सैलरी में तरक्की हासिल करने के लिए रेनू ने किसी की नहीं सुनी और अपना धर्म परिवर्तन करके मुस्लिम बन गई।
तरक्की हासिल करने के लिए हिन्दू से मुस्लिम बनी
एयरपोर्ट में एविएशन डिपार्टमेंट में काम करने वाली आयशा अल्बी का कहना है कि उसने अपना धर्म परिवर्तन किसी दबाव में नहीं किया है, बल्कि स्वेच्छा से किया है। धर्म परिवर्तन करने के बाद आयशा दुबई में एयरपोर्ट पर अच्छी सैलरी पर नौकरी करेगी। आयशा का यह भी कहना है कि जिंदगी में तरक्की ही सब कुछ है, इसके लिए भले ही धर्म क्यों ना बदलना पड़े।