अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट द्वारा जमीन की खरीद में घोटाले के आरोपों पर हंगामा, बचाव में आए बबलू खान


अयोध्या। श्रीराम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा दस मिनट पहले खरीदी गई दो करोड़ की जमीन का रजिस्टर्ड एग्रीमेंट 18.5 करोड़ में करा लिया गया। एक ही दिन हुए बैनामे व एग्रीमेंट में ट्रस्टी डॉ. अनिल मिश्रा व महापौर ऋषिकेश उपाध्याय गवाह रहे। यह आरोप रविवार को पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय ने सिविल लाइंस स्थित एक होटल में आयोजित प्रेसवार्ता में लगाते हुए प्रधानमंत्री से मामले की सीबीआई जांच कराने व दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है।
पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय ने कहा कि अयोध्या के बाग बिजेस्वर में स्थित 12080 वर्ग मीटर एक भूमि का बैनामा 18 मार्च, 2021 की शाम 07:05 बजे बाबा हरिदास ने व्यापारी सुल्तान अंसारी व रवि मोहन तिवारी को दो करोड़ रुपये में किया था। इसमें गवाह के रूप में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के ट्रस्टी डॉ. अनिल मिश्रा व महापौर ऋषिकेश उपाध्याय मौजूद रहे। कहा कि इसी दिन 07:15 मिनट के करीब इसी भूमि का रजिस्टर्ड एग्रीमेंट सुल्तान अंसारी व रवि मोहन तिवारी से श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने 18.5 करोड़ रुपये में कराया लिया।
खास बात रही कि एग्रीमेंट में भी ट्रस्टी डॉ. अनिल मिश्रा व महापौर ऋषिकेश उपाध्याय गवाह के रूप में मौजूद रहे। ट्रस्ट ने 17 करोड़ रुपये सुल्तान अंसारी व रवि मोहन तिवारी के खाते में आरटीजीएस के माध्यम से ट्रांसफर किए हैं।
चंपत राय बोले- सहमति व संवाद के आधार पर ट्रस्ट खरीद रहा है जमीन
राम मंदिर निर्माण के लिए जमीन खरीदने में श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट के ऊपर लगे घोटाले के आरोप पर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने मीडिया में प्रेस नोट जारी कर अपना पक्ष रखा है। उन्होंने कहा कि जो राजनीतिक लोग इस मामले में प्रचार कर रहे हैं, वह भ्रामक है और राजनीति से प्रेरित है।
क्रय और विक्रय का कार्य आपसी सहमति और संवाद के आधार पर हो रहा है। सहमति के बाद सहमति पत्र पर हस्ताक्षर भी किए जाते हैं। सभी प्रकार की कोर्ट फीस व स्टांप पेपर की खरीदारी ऑनलाइन की जाती है। 9 नवंबर को श्री रामजन्म भूमि के पक्ष में फैसला आने के बाद एकाएक बड़ी संख्या में लोग अयोध्या जमीनों की खरीदारी करने के लिए आने लगे।
अयोध्या के जिलाधिकारी का दावा ट्रस्ट फायदे में
मामले पर जिलाधिकारी अयोध्या अनुज कुमार झा का कहना है कि श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने बाग बिजैसी मोहल्ले में जो जमीन खरीदी है वह काफी महत्वपूर्ण स्थान पर है। ठीक इसी के सामने अयोध्या रेलवे स्टेशन का मुख्य द्वार बनना है। नए प्लान में यह इलाका सबसे बड़ा व्यावसायिक हब बनेगा। भक्तों की सुविधाओं के लिए ट्रस्ट के प्लान का स्वागत होना चाहिए।
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट पर लग रहे घोटाले के आरोपों पर अयोध्या के जाने माने सामाजिक कार्यकर्ता और मुस्लिम कारसेवक बबलू खान का हालिया बयान सामने आया है। ट्रस्ट का बचाव करते हुए उन्होंने इस पूरे घटनाक्रम को राजनीति से प्रेरित करार दिया है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस प्रकार के आरोप लगाकर करोड़ों देशवासियों की धार्मिक भावनाओं को आहत किया जा रहा है। बबलू खान ने प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस मुद्दे की उच्चस्तरीय जांच की मांग करते हुए दोषियों के खिलाफ कठोर कार्यवाही की मांग की है।
घोटाले के आरोपों से रामभक्तों को पहुंची ठेस
बबलू खान ने कहा कि विरोध करने वाले लोग पहले से चाह रहे थे कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर फैसला न आए। खान ने कहा जब राम मंदिर पर फैसला आने वाला था तब भी इन लोगों ने आरोप लगाया था। अब जब रामनगरी में भव्य राम मंदिर निर्माण हो रहा है तब भी लगातार आरोप लगाये जा रहे हैं। इन आरोपों से करोड़ों राम भक्तों के दिल को ठेस पहुंचाई गई है। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले की जांच करके दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा सुनाई जाए।