सनकी आशिक ने एकतरफा प्यार में साली पर फेंका तेजाब, सास भी सुलझी


गाजियाबाद ब्यूरो। नंदग्राम के मोरटी गांव में घर जमाई बनकर रह रहे शख्स ने मां के साथ सो रही नाबालिग साली को तेजाब से जला दिया। तेजाब की छींटें पड़ने से आरोपी की सास भी झुलस गई। चीख-पुकार मचने पर किशोरी व उसकी मां को आननफानन अस्पताल में भर्ती कराया गया। घटना के बाद किशोरी के पिता ने दामाद पर शक जाहिर किया। शुरू में आरोपी पुलिस को गुमराह करता रहा, लेकिन सख्ती करने पर अपना जुर्म कबूल कर लिया। पुलिस के मुताबिक आरोपी अपनी साली से एकतरफा प्यार करता था। उसे साली का अन्य लड़कों से बात करना पसंद नहीं था। साली को सबक सिखाने के लिए उसने घटना को अंजाम दिया। पुलिस ने आरोपी से तेजाब की बोतल व इंजेक्शन बरामद कर लिया है।
मूलरूप से मेरठ के सरधना थानाक्षेत्र के रहने वाले व्यक्ति का कहना है कि वह वर्तमान में नंदग्राम थानाक्षेत्र में किराए के मकान में रहता है। छह साल पहले उसने अपनी बड़ी बेटी की शादी हरदोई के गांव तुर्तीपुर निवासी लखन यादव के साथ की थी। करीब पांच साल से लखन उन्हीं के यहां घर जमाई बनकर रह रहा था। शनिवार रात वह परिवार के साथ घर में सोये हुए थे। गेट के पास वाले तख्त पर उनकी 17 वर्षीय छोटी बेटी अपनी मां के साथ सोयी हुई थी, जबकि गेट के सामने बेड पर बड़ी बेटी सो रही थी। उनका दामाद लखन गेट के बाहर चारपाई पर सोया हुआ था। रात करीब डेढ़ बजे उनकी छोटी बेटी चीख-पुकार मचाने लगी। उठकर देखा तो उस पर तेजाब से हमला किया गया था। पास सो रही उसकी मां भी तेजाब की छीटे पड़ने से झुलस गई थी। एसएचओ नंदग्राम नीरज कुमार सिंह का कहना है कि किशोरी के पिता ने अपने दामाद पर ही शक जाहिर किया था। पूछताछ में उसने जुर्म कबूल कर लिया, जिसके बाद सोमवार को उसे गिरफ्तार कर लिया गया। लखन यादव लिंकरोड थानाक्षेत्र के झंडापुर स्थित कपड़ा फैक्टरी में डाई का काम करता है। एसएचओ के मुताबिक पीड़िता करीब 35 फीसदी झुलस चुकी है। राजनगर एक्सटेंशन स्थित निजी अस्पताल में उसका उपचार चल रहा है।
डेढ़ माह पहले बनाई चेहरा बिगाड़ने की योजना
एसएचओ का कहना है कि लखन यादव अपनी साली पर गलत नजर रखता था। उसके अपनी पत्नी से संबंध ठीक नहीं हैं। पूर्व में कई बार उसने अपनी साली से छेड़छाड़ भी की थी। वह साली से एक तरफा प्यार करता था, लिहाजा किसी भी लड़के से किशोरी का बात करना लखन को अखरता था। काफी समझाने के बाद भी साली ने अन्य लड़कों से बात करना बंद नहीं किया तो उसने उसे सबक सिखाने की ठानी। आरोपी ने बताया कि उसने डेढ़ महीने पहले ही साली का चेहरा बिगाड़ने की योजना बना ली थी। मौका मिलते ही उसने घटना को अंजाम दे डाला।
फर्रूखनगर से खरीदकर लाया था तेजाब
पुलिस के मुताबिक आरोपी टीला मोड़ थानाक्षेत्र के फर्रूखनगर से तेजाब खरीदकर लाया था। वह शुरू में इंजेक्शन के जरिए मामूली रूप से तेजाब डालना चाहता था। उसने दो इंजेक्शन में तेजाब भी भर भी रख लिया, लेकिन बाद में उसने बोतल से ही तेजाब फेंकने की योजना बनाई। घटना के बाद तेजाब से भरा एक इंजेक्शन लखन की चारपाई पर रखा मिला, जिसको लेकर भी परिजनों को उस पर शक गहरा गया था। वहीं, पुलिस ने पूछताछ के बाद उसकी निशानदेही पर घर के बाहर ईंट केढेर में छिपाई तेजाब की बोतल व दूसरा इंजेक्शन बरामद कर लिया।
दूध डालकर बचाने का नाटक किया, खुद ही ले गया अस्पताल
पुलिस के मुताबिक चीख-पुकार मचने पर किशोरी के पिता ने लाइट जलाई तो गेट के बाहर सो रहा लखन भी कमरे में आ गया। इसके बाद परिजनों को गुमराह करने के लिए उसने साली पर दूध डालकर बचाने का नाटक किया और फिर खुद ही उसे अस्पताल ले गया। परिजनों को शक न हो सके, इसके लिए वह इलाज के लिए खुद को बेचने की बात भी कह रहा था। लेकिन, आरोपी की पुरानी हरकतों के कारण परिजनों को उस पर शक हो रहा था।
तेजाब की छींटों से जले लोवर ने खोली पोल
चारपाई पर तेजाब भरा इंजेक्शन मिलने के बारे में पूछने पर लखन ने यह कहकर गुमराह किया कि हमला करने वाला शख्स भागते समय इंजेक्शन उसकी चारपाई पर रख गया। इसी बीच पुलिस ने तेजाब की छींटों से उसका लोवर जला देखा तो उससे सख्ती से पूछताछ की गई। वहीं, इंजेक्शन लाकर देने वाले से सामना कराने की बात कही तो लखन सकपका गया और अपना जुर्म कबूल कर लिया। एसएचओ का कहना है कि आरोपी को कोर्ट में पेश कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।