कानपुर में टीले की खुदाई में मिला खजाना, मजदूर और जेसीबी ड्राइवर ने आपस में बांट लिया


  • खजाना मिलने की सूचना पर ग्रामीणों की भीड़ इकट्ठा हो गई
  • सूचना पर पहुंची पुलिस ने जेसीबी चालक और मजदूरों से 72 सिक्के बरामद कर लिए
  • एक मजदूर मौके से सिक्का लेकर भाग गया
कानपुर ब्यूरो। कानपुर देहात में मिट्टी के टीले की खुदाई के दौरान एक घड़े में खजाना मिला है। जेसीबी चालक ने मजदूरों के साथ मिलकर खजाने को आपस में बंटवारा कर लिया। खजाना मिलने की सूचना पर ग्रामीणों की भीड़ इकट्ठा हो गई। ग्रामीण इस खजाने को गांव की संपत्ति बताकर हंगामा करने लगे। ग्रामीणों ने जेसीबी चालक और मजदूरों को घेर लिया। खजाने की सूचना पर पहुंची पुलिस ने जेसीबी चालक और मजदूरों से 72 सिक्के बरामद कर लिए हैं। पुलिस इन सिक्कों को पुरातत्व विभाग को सौंपेगी।
राजपुर ब्लॉक के छोलापुर गांव में पंचायत निधि से स्थानीय विधायक मंदिर तक पहुंचने के लिए 200 मीटर खड़ंजा निर्माण के कार्य को शुरू कराया था। खड़ंजा बिछाने के लिए सोमवार को जेसीबी से मिट्टी की खुदाई का कार्य किया जा रहा था। इसी दौरान जेसीबी चालक वीरेंद्र को चांदी भरा मिट्टी का घड़ा दिखाई पड़ा। जेसीबी चालक समेत चार लोग मौके पर मौजूद थे। सभी ने सिक्कों का आपस में बंटवारा कर लिया। जब इसकी भनक ग्रामीणों को लगी तो बड़ी संख्या में गांव वालों की भीड़ इकट्ठा हो गई। ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस भी पहुंच गई।
एक मजदूर सिक्का लेकर हुआ फरार
छोलापुर गांव पहुंची पुलिस ने जेसीबी चालक वीरेंद्र समेत दो लोगों को हिरासत में ले लिया। तीनों के पास से पुलिस ने 72 सिक्के बरामद कर लिए, लेकिन एक मजदूर मौके से सिक्का लेकर भाग निकला। राजपुर पुलिस उसकी तलाश में जुटी है।
1880 और 1920 के हैं सिक्के
थाना प्रभारी विनोद कुमार का कहना है कि 90 सिक्के मिलने की सूचना थी। इसमें कुछ सिक्के 1880 और 1920 के हैं। इसकी सूचना सिकंदरा एसडीएम को दी गई है। एसडीएम ने डीम को सूचित किया है। पुरातत्व विभाग की टीम गांव का निरीक्षण करेगी। इसके साथ ही बरामद किए गए सिक्के पुरातत्व विभाग को सौंपे जाएंगे।