गाजियाबाद में तीन तलाक :गर्भ में पल रही थी लड़की का अबॉर्शन कराने से इनकार करने पर दिया तीन तलाक, घर से निकाला


सूर्य प्रकाश,(गाजियाबाद)। गाजियाबाद के थाना लोनी बॉर्डर क्षेत्र में एक महिला के गर्भ में लड़की होने की जानकारी मिलने पर तीन तलाक दिए जाने का मामला सामने आया है। इस पूरे मामले में पीड़िता ने अपने ससुराल वालों के खिलाफ मारपीट और तीन तलाक दिए जाने की थाने में तहरीर दी है। पुलिस ने तहरीर के आधार पर मामला दर्ज कर तलाश शुरू कर दी है।
गर्भ में लड़की की सूचना मिली तो दिया तीन तलाक
लोनी थाना बॉर्डर क्षेत्र निराले वाली अंजुम नाम की महिला ने बताया कि उसकी शादी लोनी थाना क्षेत्र में हुई थी।आरोप है कि शादी के बाद से ही दहेज को लेकर उसकी ससुराल वाले मारपीट और उत्पीड़न करने लगे। अंजुम ने अपने ससुर पर भी गंदी नियत रखने का आरोप लगाया है। पीड़िता ने बताया कि जब वह गर्भवती हुई तो उसका लिंग परीक्षण कराया गया तो गर्भ में लड़की थी। जिसके बाद ससुराल वालों ने उसका गर्भपात कराए जाने के लिए कहा। लेकिन अंजुम ने इसका विरोध किया तो उसे तीन तलाक देकर निकाल दिया गया।
पीड़िता का आरोप है कि 20 नवंबर 2020 से वह लगातार परेशान हो रही है। अंजुम का कहना है कि जब भी वह अपनी ससुराल में जाती है। तो उसे घर से भगा दिया जाता है और उससे कहा जाता है कि उसे तलाक दिया जा चुका है। पीड़िता ने सभी बातों का जिक्र करते हुए स्थानीय पुलिस को एक तहरीर दी। अंजुम ने बताया कि पुलिस ने मामला तो दर्ज किया लेकिन कार्रवाई कोई नहीं हो पाई। आरोप है कि तभी से वह लगातार थाने और पुलिस के आला अधिकारियों के चक्कर लगा रही है।
पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की
क्षेत्राधिकारी लोनी अतुल कुमार सोनकर ने बताया कि अंजुम नाम की एक महिला ने अपनी ससुराल वालों के खिलाफ एक तहरीर दी है। जिसमें ससुराल वालों पर दहेज उत्पीड़न और लड़की होने की सूचना मिलने के बाद तीन तलाक का जिक्र किया गया है। फिलहाल पीड़िता की तहरीर के आधार पर मामला दर्ज कर इस पूरे मामले की गहनता से जांच शुरू कर दी है। जो भी तथ्य सामने आएंगे उसके आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।