बदमाशों ने 100 बैंक खाते खरीदे, फिर 77 लाख उड़ाए, 6 महीने बाद पर्दाफाश, 6 गिरफ़्तार


  • ऑनलाइन ठगी का मुख्य सरगना सऊदी अरब से चला रहा धंध
  • भीलवाड़ा पुलिस ने रेड कॉर्नर नोटिस जारी करवाया
  • ठगी से जुड़े आठ आरोपियों को दबोचने के लिए आठ राज्यों के 54 गांवों में छापेमारी
  • अब तक 6 आरोपी गिरफ्तार
भीलवाड़ा। राजस्थान की भीलवाड़ा पुलिस ने बुधवार को जिले की सबसे बड़ी ऑनलाइन ठगी का खुलासा किया है। पुलिस ने 8 राज्यों में छापामार कार्रवाई करते हुये 6 आरोपियों को भी गिरफ्तार किया है। भीलवाड़ा के एक कपड़ा व्यापारी के बैंक खाते से इस गैंग ने 77 लाख रुपये उड़ा लिये थे। इसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की। अब तक अलग-अलग राज्यों से 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।
भीलवाड़ा के प्रतापनगर थानाधिकारी इंस्पेक्टर भजन लाल ने बताया यह गिरोह लोगों से उनके बैंक खाते खरिदता। उन्हीं खातों में ठगी का पैसा ट्रांसफर करता। ताकि किसी के पकड़ में नहीं आए। इसके लिये चाय की थड़ी और अंडे के ठेले चलाने वाले जैसे गरीब लोगों से उनके बैंक खाते खरीदे जाते। इसे बदले उन्हें 25-25 हजार रुपये दिए जाते। फिर इन्हीं खातों से ठगी का लेन-देन किया जाता। अब तक जांच में ऐसे 100 खातों की जानकारी मिली है।
भीलवाड़ा शहर के प्रतापनगर थानाधिकारी इंस्‍पेक्‍टर भजन लाल ने कहा कि 16 फरवरी को भीलवाड़ा के एक कपड़ा व्‍यापारी हरकचन्‍द लालानी के बैंक खाते से रुपये निकाले गये। यह खाता बैंक ऑफ बडौदा में था जिसमें से किसी ने 77 लाख रूपये निकाले। इस पर एफआईआर दर्ज कर अकाउन्‍ट में बचे हुए 23 लाख रुपये के लिए खाते को फ्रीज करवाया।
भीलवाड़ा के एसपी विकास शर्मा ने इस ऑनलाइन ठगी को ट्रेस आउट करने के लिए 9 टीम गठित की। यह टीम पूरे भारत में अलग-अलग जगहों पर गयी। हम लोग इसके अनुसंधान में बिहार, झारखण्‍ड,दिल्‍ली, उत्‍तराखंड, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उतर प्रदेश और पश्चिम बंगाल के 54 गांवों में छापे मारे गये। वहां से 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया।
इन लोगों ने ऑनलाइन ठगी का एक रैकेट बना रखा है। जिसमें यह बैंक खाताधारक से 25 से 30 हजार रुपये में उसकी हैसियत के अनुसार उसका खाता खरीद लेते। जिसमें बैंक की पासबुक, एटीएम कार्ड और मॉबाइल सिम कार्ड शामिल होता है। गरीब लोगों से यह खाता खरीदकर ऑनलाइन ठगी के नेटवर्क के नीचे के लोग ऊपर वालों को यह उपलब्‍ध करवाते। इन्हीं खातों से ठगी की बड़ी रकम ट्रांसफर की जाती। इसके के बाद इन खातों से एटीएम के जरिये रुपये निकाल लिये जाते।
पुलिस ने अभी तक 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें बैरबिघा बिहार से 2, मधेपुरा से 2, उत्‍तराखण्‍ड से 1 और दिल्‍ली से 1 शामिल है।