महाराष्ट्र में बीजेपी के 12 विधायक एक साल के लिए निलंबित, स्पीकर और अधिकारियों से बदतमीजी का आरोप!


  • बीजेपी के 12 विधायक एक साल के लिए निलंबित
  • निलंबित विधायकों पर स्पीकर बदतमीजी और अधिकारियों से धक्का- मुक्की का आरोप
  • बीजेपी विधायकों ने किया कार्रवाई का विरोध
  • बीजेपी के हंगामे की वजह से सदन की कार्यवाही भी स्थगित
कांती जाधव,(मुंबई ब्यूरो)। महाराष्ट्र विधानसभा में मॉनसून सत्र के पहले ही दिन बीजेपी नेताओं ने जमकर हंगामा किया। पहले सदन की सीढ़ियों पर बैठकर बीजेपी के तमाम नेताओं ने नारेबाजी की और उसके बाद स्पीकर के केबिन में जाकर अधिकारियों से धक्का-मुक्की का भी आरोप लगा है।
12 विधायक एक साल के लिए निलंबित
इस मामले में सत्ता पक्ष के मंत्रियों और विधायकों ने बीजेपी के विधायकों पर कार्रवाई की मांग की। इसके बाद बीजेपी के 12 विधायकों को सदन से 1 साल के लिए निलंबित कर दिया गया है। बीजेपी के जिन 12 विधायकों को सदन से निलंबित किया गया है, उनके नाम हैं- संजय कुटे, आशीष शेलार, अभिमन्यु पवार, गिरीश महाजन, अतुल भातखलकर, पराग अलवानी, हरीश पिंपले, राम सातपुते, विजय कुमार रावल, योगेश सागर, नारायण कुचे, कीर्ति कुमार बंगड़िया हैं।
पीठासीन अधिकारी से बदतमीजी
नवाब मलिक ने बीजेपी विधायकों का नाम लेते हुए कहा कि इन विधायकों ने स्टेज पर जाकर पीठासीन अधिकारियों के साथ धक्का-मुक्की की सदन के अंदर नेता विपक्ष ने स्पीकर का माइक तोड़ा। इसके बाद जब हाउस स्थगित हो गया, तब बीजेपी नेताओं ने स्पीकर के केबिन में जाकर अधिकारियों से 15 मिनट तक धक्का-मुक्की की।
कार्रवाई का विरोध
वहीं, बीजेपी विधायकों ने इस निलंबन की कार्रवाई का कड़ा विरोध किया और सदन से नारेबाजी करते हुए बाहर निकले। बीजेपी ने मॉनसून सत्र से पहले ही विरोध प्रदर्शन की चेतावनी दी थी।