व्हाट्सएप पर लड़की बन लोगों के न्यूड वीडियो बनाता था 15 साल का लड़का, फिर करता था ब्लैकमेल


  • लड़की बनकर लोगों को ब्लैकमेल करने वाला नाबालिग हुआ गिरफ्तार
  • व्हाट्सएप कॉल कर न्यूड वीडियो बनाता था दसवीं का छात्र
  • अपने ही चाचा को आरोपी युवक बना चुका था शिकार
  • कई बड़े अधिकारियों को भी बना चुका है निशाना
सिंगरौली,(मध्य प्रदेश)। साइबर ब्लैकमेलर इन दिनों लोगों से फ्रॉड करने के नए-नए तरीके अपना रहे हैं। ब्लैकमेलर इन दिनों सेक्सटॉर्शन के जरिए लोगों से ठगी कर रहे हैं। सेक्सटॉर्शन के मामले अभी तक इंदौर, भोपाल और दिल्ली जैसे महानगरों में आते थे, लेकिन अब सिंगरौली जिले में भी आने लगे हैं। हैरत की बात यह है कि नाबालिग बच्चे भी व्हाट्सएप पर वीडियो कॉल कर लोगों को ब्लैकमेल करने का अपराध कर रहे हैं।
सेक्सटॉर्शन यानी व्हाट्सएप पर वीडियो कॉलिंग कर लोगों के न्यूड वीडियो बनाकर उसके माध्यम से ब्लैकमेल करना होता है। इसी तरह का एक नया मामला मोरवा थाने से सामने आया है। मोरवा का एक दसवीं कक्षा में पढ़ने वाला नाबालिग लड़का अपने चाचा और कई बड़े अधिकारियों को इस जाल में फंसा चुका है।
मोरवा निवासी एक युवक ने शिकायत की थी कि प्रियंका नाम की एक लड़की व्हाट्सएप कॉलिंग करती है और लड़कों को अपने जाल में फंसाकर अश्लील वीडियो बनाकर पैसों की मांग करती है। पैसे ना देने पर वीडियो को वायरल करने की धमकी देती है। युवक की शिकायत पर पुलिस मामले की जांच में जुटी तब नाबालिग लड़के की करतूत सामने आई। यह शातिर लड़का 2 सेकंड में लोगों के मोबाइल को हैक कर लेता था।
एडिशनल एसपी अनिल सोनकर ने बताया कि आरोपी लड़के ने प्रतिबंधित ऐप को अपने मोबाइल पर लोड कर रखा था जो फर्जी नाम पर है। ऐप के माध्यम से छात्र ने व्हाट्सएप पर लड़कियों के नाम पर फर्जी आईडी बना रखा है। वह लोगों को व्हाट्सएप कॉल कर लड़की बनकर पहले चिकनी चुपड़ी बातें करता था। उसके बाद वीडियो कॉलिंग में न्यूड लड़कियों का वीडियो बनाकर उनको ही भेजकर ब्लैकमेल करता था। यह आरोपी इतना शातिर है कि बातों ही बातों में सामने वाले के भी कपड़े उतरवा देता था। फिर उसे रेकॉर्ड कर लेता था और उसी की मदद से लोगों को ब्लैकमेल कर पैसों की मांग करता था। पैसे ना देने पर न्यूड वीडियो इंटरनेट पर वायरल करने की धमकी देता था।
पुलिस ने बताया कि यह पूरा काम वह अपने घर मोरवा से ही करता था। छात्र ऐप के माध्यम से अपने आप को यूएई का निवासी बताता था। वह ऑनलाइन पैसे लेता था। ब्लैकमेल से प्राप्त पैसों से उसने डार्कवेब के माध्यम से खतरनाक हैकिंग सॉफ्टवेयर खरीदा था। आरोपी युवक क्रिप्टो करेंसी के माध्यम से सॉफ्टवेयर ऑनलाइन खरीदा था। पुलिस ने बताया कि युवक 2 दर्जन से अधिक लड़कियों के नाम पर फर्जी व्हाट्सएप आईडी बना चुका है जिनका उपयोग वह लोगों से ठगी करने में काम करता था।
लड़का जिस व्यक्ति को अपना शिकार बनाता था, उसकी आईडी और मोबाइल भी वह हैक कर लेता था और उनके घर वालों के मोबाइल नंबर भी निकाल लेता था। हैरान करने वाली बात यह है कि यह 15 वर्षीय लड़का अकेले ही पूरी वारदात को अंजाम देता था। पुलिस ने आरोपी युवक से लैपटॉप सहित कई प्रतिबंधित सॉफ्टवेयर जब्त कर लिया है।