गाजियाबाद में साइबर ठगों ने एक महिला को एसएमएस कर दिया कार जीतने का झांसा, रजिस्ट्रेशन फीस और ट्रांसपोर्ट खर्च के नाम पर वसूले 18 हजार रुपये


गाजियाबाद ब्यूरो। इनाम में टाटा सफारी जीतने का झांसा देकर वसुंधरा में रहने वालीं एक महिला को ठग लिया गया। जालसाजी में शामिल लोगों ने महिला से अपने खाते में 18 हजार रुपये से ज्यादा ट्रांसफर करवा लिए। गाड़ी नहीं मिलने पर ठगी का पता चला तो पीड़िता ने इंदिरापुरम थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। दो लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। वसुंधरा सेक्टर-1 में रहने वालीं श्रुति ने बताया कि वह वर्षों से ऑनलाइन शॉपिंग करती आ रही हैं। 13 जुलाई को मोबाइल पर एसएमएस आया। दिए गए लिंक पर टच करने से टाटा सफारी कार इनाम में जीतने की बात थी। लिंक पर क्लिक करने के बाद ऑनलाइन शॉपिंग साइट से मिला रजिस्टर्ड कंज्यूमर नंबर डालने पर एक गिफ्ट कूपन दिखा। स्क्रैच करने पर वॉट्सऐप नंबर दिखा। कॉल किया तो दूसरी तरफ से एक युवक ने अपना नाम संजीव कुमार बताया और 3500 रुपये रजिस्ट्रेशन शुल्क जमा करने को कहा।
रजिस्ट्रेशन के नाम पर भी वसूले पैसे
संजीव ने आईडी के तौर पर अपना आधार व पैन कार्ड भेजा। इसके बाद पीड़िता से आधार व पैन कार्ड मांगा। इस पर पीड़िता ने डिटेल के साथ 3500 रुपये ट्रांसफर कर दिए। इसके बाद संजीव ने कहा कि वह कंपनी के एमडी यश यादव के मोबाइल पर संपर्क करें। यश से संपर्क किया तो कहा गया कि गाड़ी कोलकाता से भेजी जाएगी। ट्रांसपोर्ट और अन्य चार्ज लगभग 15 हजार रुपये जमा करने होंगे। पीड़िता ने 13 जुलाई को 15 हजार रुपये जमा कर दिए।
केस में फंसाने की धमकी दी
उसके बाद यश ने कॉल कर बताया कि उनकी गाड़ी तैयार है। उसने ड्राइवर का नाम विजय चंद्रा बताया और मोबाइल नंबर भी दिया। संपर्क किया तो ड्राइवर ने कहा कि वह गाड़ी लेकर निकल रहा है। इसके बाद से सभी के नंबर स्विच ऑफ आने लगे। कोशिश के बाद संपर्क हुआ तो आरोपित बहाने बनाने लगे। उन्हें बताया गया कि गाड़ी कोलकाता बॉर्डर पर रोक ली गई है। दूसरे राज्य में जाने के लिए एनओसी लेने के लिए करीब 29 हजार रुपये देने होंगे। इस पर श्रुति ने अपने रुपये वापस मांगे तो उन्हें केस में फंसाने की धमकी दी गई। शिकायत पर पुलिस ने संजीव व यश यादव के खिलाफ केस दर्ज किया है।