यू-ट्यूबर हिमांशी मामले में आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज


  • यूट्यूबर हिमांशी गांधी ने सिग्नेचर ब्रिज से कूदकर आत्महत्या कर ली थी
  • रिपोर्ट के मुताबिक, 24 जून से लापता थी, 25 जून को शव बरामद हुआ
  • पुलिस को मिली सीसीटीवी फुटेज में सिग्नेचर ब्रिज से कूदते हुए दिखी थीं
दिल्ली ब्यूरो। यू-ट्यूबर हिमांशी गांधी की खुदकुशी के मामले में पुलिस ने आत्महत्या को उकसाने की धारा के तहत केस दर्ज कर लिया है। पुलिस ने हिमांशी की वॉट्सऐप चैट, परिजनों के बयान और उसके करीबी दोस्तों से पूछताछ के बाद यह कदम उठाया है। पुलिस का कहना है कि कुछ ऐसे तथ्य हैं, जिनमें उसके दोस्त की भूमिका संदेह के दायरे में है।
24 जून को यू-ट्यूब पर मोटिवेशनल वीडियो बनाने वाली हिमांशी गांधी ने दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज से यमुना में कूदकर छलांग लगा दी थी। 25 जून को उनका शव कुदेशिया घाट पर यमुना नदी से मिला था। मामले की जांच में एक वॉट्सऐप चैट ने खुदकुशी केस में नया मोड़ ला दिया था। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, हिमांशी के एक दोस्त के मोबाइल से चैट में पता चला है कि वह अपने दोस्त और बाकी को मौत का लिए जिम्मेदार बताकर मरने की बात कर रही है। यह चैट 24 जून को दोपहर 2.26 से लेकर 3.07 बजे के बीच हुई थी।
हिमांशी के परिजनों का आरोप है कि जिस लड़के को हिमांशी मौत का जिम्मेदार बता रही है, उसने ही परिवार को उसके चले जाने की सूचना दी। इसके बाद वह परिवार को लगातार गुमराह भी करता रहा। पुलिस टीम ने इस पूरे मामले की जांच की और फिर आत्महत्या के लिए उकसाने की धारा में मुकदमा दर्ज कर लिया है।
बता दें कि हिमांशी परिवार के साथ संत नगर बुराड़ी में रहती थीं। वह 24 जून को विजय नगर गई थीं। उन्होंने दोस्तों के साथ कैफे खोला था। देर शाम तक उनके बारे में कोई जानकारी न मिलने पर पिता ने लापता होने की रिपोर्ट बुराड़ी थाने में दर्ज करवाई थी। उस दिन 4 बजे हिमांशी के दोस्त आयुष ने फोन करके हिमांशी की मां को बताया था कि आंटी हिमांशी गुस्से में यहां से निकली है। हम उसे ढूंढ रहे हैं। रात तक हिमांशी घर नहीं पहुंचीं। 25 जून को यमुना में हिमांशी का शव मिला।
जांच के दौरान पुलिस को सिग्नेचर ब्रिज पर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज मिली। उसमें 24 जून की दोपहर लगभग साढ़े तीन बजे के आसपास हिमांशी सिग्नेचर ब्रिज से यमुना नदी में कूदती दिख रही हैं। फुटेज में हिमांशी पहले रेलिंग के ऊपर चढ़कर नीचे कूदना चाह रही थी, लेकिन वह जब रेलिंग पर नहीं चढ़ पाईं तो रेलिंग के बीच में घुस यमुना नदी में छलांग लगा दी।