थाने में आराम करता था इंस्पेक्टर, प्राइवेट शख्स से कराता था काम


गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले की पुलिस का ऐसा कारनामा सामने आया है जिसे सुनकर हर कोई हैरान हो जाए। यहां गोला थाने के संतोष कुमार सिंह के कारनामों और लापरवाही की जानकारी होने के बाद एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु ने उन्हें शनिवार को सस्पेंड कर दिया। उनकी जगह पुलिस लाइन से इंस्पेक्टर सुबोध कुमार को गोला थाने का प्रभार सौंपा है। संतोष सिंह पर आरोप है कि वह किसी प्राइवेट व्यक्ति से थाना चलवा रहे थे। साथ ही अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने में भी वे काफी सुस्त थे। जांच में पुष्टि होने के बाद पुलिस कप्तान ने उन्हें सस्पेंड कर दिया है।
थाने में दिन भर फरमाते थे आराम
एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु ने बताया कि सभी थानों को 15 साल में वांछित बदमाशों के डोजियर भरने के निर्देश दिए गए हैं। इसके लिए कई बार कहने पर भी गोला इंस्पेक्टर ने बदमाशों का पूरा डोजियर तैयार नहीं किया। साथ ही शिकायतें मिल रही थीं कि वह आम लोगों को कई-कई दिन थानों में बैठाए रखते थे, जो पुलिस मैन्युअल के बिल्कुल खिलाफ है। वहीं, अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई तो दूर, कई-कई दिन इंस्पेक्टर थाने से बाहर ही नहीं निकलते। दिन भर थाने में आराम फरमाते हैं। ऐसे में इलाके में लगातार अपराधिक वारदातें बढ़ती जा रही हैं।
इंस्पेक्टर की मनमानी से परेशान थे कर्मी
एसएसपी ने बताया कि शिकायत यह भी मिली थी कि इंस्पेक्टर ने थाने पर किसी प्राइवेट व्यक्ति को रखा था जो थाना चला रहा था। व्यक्ति खुद को पुलिस वाला समझ कर्मियों पर रौब झाड़ता था, ऐसी भी शिकायत मिली है। हालांकि एसएसपी ने ऐसे व्यक्ति की पहचान नहीं बताई। उन्होंने कहा कि उसके खिलाफ भी जांच शुरू की गई है। कार्रवाई की जाएगी। इंस्पेक्टर के खिलाफ विभागीय जांच और कार्रवाई की भी प्रक्रिया शुरू करा दी गई है।