बालाजी धाम मंदिर के महंत ने की आत्मदाह की कोशिश, हंगामा


गाजियाबाद ब्यूरो। नंदग्राम के हिंडन विहार में बालाजी धाम मंदिर के महंत ने मंगलवार को आत्मदाह करने की कोशिश की। इस पर वहां मौजूद पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए। महंत ने कुछ लोगों पर गंभीर आरोप लगाए। मौके पर मौजूद विहिप कार्यकर्ताओं ने हंगामा शुरू कर दिया। एसपी सिटी व अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और दो दिन में आरोपियों पर कार्रवाई का आश्वासन दिया, तब जाकर मामला शांत हुआ।
पिछले शनिवार की रात करीब साढ़े दस बजे हिंडन विहार में रहने वाला शिवम मंदिर के पास मोबाइल पर तेज आवाज में गाने सुन रहा था। मंदिर के महंत मछेंद्रपुरी ने मना किया, लेकिन वह नहीं माना। इसके बाद महंत व उनके अनुयायियों ने शिवम से मारपीट की थी। बचने के लिए शिवम पास के मेडिकल स्टोर में घुस गया। वहां कुछ लोगों ने बीच-बचाव किया और शिवम को अस्पताल भिजवाया। शिवम की तहरीर पर नंदग्राम पुलिस ने महंत व अन्य के खिलाफ केस दर्ज किया था। इसी कड़ी में मंगलवार को महंत मछेंद्रपुरी ने हनुमान चालीसा के पाठ का आयोजन किया, जिसमें हिंदू संगठनों के कार्यकर्ता शामिल हुए। तीन थानों की पुलिस मंदिर पर तैनात कर दी गई। बताया गया कि पुलिस की मौजूदगी और हनुमान चालीसा के पाठ के दौरान ही खुद पर पेट्रोल छिड़ककर आत्मदाह करने की कोशिश की। एकाएक नजारा बदला देख पुलिस के हाथ-पांव फूल गए।
विश्व हिंदू परिषद केजिलाध्यक्ष आयुष त्यागी का आरोप है कि जिले के एक प्रशासनिक अधिकारी ने महंत को धमकाया था। इस बात पर माहौल बिगड़ गया। बताया गया कि प्रशासनिक अधिकारी की धमकी के बाद महंत ने आत्मदाह की कोशिश की। पुलिस उन्हें साथ ले जाने लगी तो विहिप कार्यकर्ताओं ने बखेड़ा शुरू कर दिया। मछेंद्र पुरी के समर्थन में विहिप के अलावा अन्य मंदिरों के महंत भी समर्थन में आ गए। उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ लोग मंदिर को खत्म कर देना चाहते हैं। जिसके चलते वह नए-नए तरीके अपना रहे हैं। कभी मंदिर में चोरी तो कभी श्रद्धालुओं से मारपीट कर रहे हैं। इससे त्रस्त होकर क्षेत्र के काफी लोग पयालन कर चुके हैं। एसपी सिटी निपुण अग्रवाल का कहना है कि जिन लोगों पर महंत ने आरोप लगाया है, उनकी धरपकड़ की जाएगी।