कांवड़ यात्रा को लेकर विशेषज्ञों की चेतावनी, कहा कुंभ से पांच गुना ज्यादा फैलेगा कोरोना


नेशनल डेस्क। सावन महीने में हर साल कांवड यात्रा निकलती है लेकिन कोरोना की वजह से पिछले साल से हर चीज पर खतरा मंडरा रहा है। ऐसे में जहां एक तरफ उत्तराखंड सरकार कांवड़ यात्रा की अनमुति देने के बारे में विचार कर रही है। वहीं दूसरी तरफ विशेषज्ञों ने इसे लेकर चेतावनी दी है। विशेषज्ञों ने चेतावनी देते हुए कहा है कि तीसरी लहर की आशंका के बीच कांवड यात्रा कुंभ मेले से पांच गुना ज्यादा खतरनाक साबित हो सकती है। एक्पर्ट्स ऐसा मान रहे हैं कि कांवड यात्रा में शामिल होने वाले श्रद्धालुओं की संख्या कुंभ मेले में शामिल हुए श्रद्धालुओं से ज्यादा हो सकती है। 
अनुमति मिलने पर 3 से 4 करोड़ श्रद्धालु पहुंचेंगे
सोशल डेवलपमेंट फॉर कम्यूनिटीज फाउंडेशन के अनूप नौटियाल का कहना है कि भले ही कोरोना की गाइडलाइन का पालन करते हए यात्रा की अनुमति दी जाए लेकिन इसका पालन करवा पाना संभव नहीं है। कुंभ मेले में हुई हालत और दूसरी लहर के बाद लॉकडाउन में मिली छूट के बाद टूरिस्ट प्लेस पर उमड़ी भीड़ को ध्यान में रखते हुए उन्होंने यह बात कही। 
उन्होंने कहा कि कांवड़ यात्रा के दौरान 15 दिन में 3 से 4 करोड़ श्रद्धालु हरिद्वार पहुंचेंगे। ऐसे में इसके बाद फैले संक्रमण को राज्य संभाल नहीं पाएंगे। उन्होंने कहा कि इसलिए कांवड़ यात्रा की अनुमित नहीं दी जानी चाहिए। वहीं दून मेडिकल कॉलेज के मेडिल सुपिरिटेंडेट डॉ एनएस खत्री ने भी इस फैसले से बचने की सलाह दी है। साथ ही उन्होंने कहा है कि राज्य में पहला डेल्टा प्लस का मामला दर्ज कर लिया गया है। 
25 जुलाई से यूपी सरकार ने दी कांवड़ यात्रा की अनुमति 
उत्तराखंड के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री पुष्कर धामी का कहना है कि इस पर फैसला पड़ोसी राज्यों उत्तर प्रदेश, हरियाणा, मध्य प्रदेश, दिल्ली और हिमाचल प्रदेश की सरकारों से बातचीत के बाद होगा। उत्तराखंड हाईकोर्ट चार धाम की यात्रा पर पहले ही रोक लगा चुका है। हालांकि यह बात और है कि हाईकोर्ट के इस फैसले को राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। 
25 जुलाई से यूपी सरकार कांवड़ यात्रा की अनुमति दे चुकी है। हालांकि तीरथ सिंह रावत के नेतृत्व वाली सरकार कांवड यात्रा पर पहले ही रोक लगा चुकी है। वहीं हाल ही में नवनिर्वाचित पुष्कर धामी ने दिल्ली में प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात कर इस विषय को लेकर चर्चा भी की है।