मोबाइल ऐप पर मुस्लिम युवतियों की 'नीलामी'? ट्विटर पर बवाल के बाद एफआईआर दर्ज


  • डील्‍स नाम की ऐप पर 80 से ज्‍यादा मुस्लिम महिलाओं के फोटो
  • अपने विजिटर्स को 'सुल्‍ली' पर दावा ठोंकने का मौका देती है यह ऐप
  • शिकायतों के बाद दिल्‍ली पुलिस की साइबर सेल ने दर्ज की एफआईआर
  • ट्विटर पर ट्रेंड हो रहा 'अरेस्‍ट रितेश झा', पहले भी विवाद में रहा है नाम
नई दिल्‍ली। एक ऐप पर मुस्लिम युवतियों की तस्‍वीरें अपलोड कर उनकी 'नीलामी' किए जाने का मामला सामने आया है। 80 से ज्‍यादा महिलाओं की 'बोली' लगाई गई। कुछ पीड़‍ित युवतियों ने दिल्‍ली पुलिस से शिकायत की जिसके बाद साइबर सेल ने एफआईआर दर्ज कर ली है। ट्विटर पर इस पूरे प्रकरण से हंगामा मचा हुआ है। मंगलवार को 'रितेश झा' नाम के शख्‍स के आसपास ट्रेंड्स चलते रहे। इस शख्‍स का नाम पहले भी ऑनलाइन यौन अपराधों में सामने आ चुका है।
ऐप का नाम एक एक भद्दा टर्म है जिसे मुस्लिम महिलाओं के लिए कुछ लोग इस्‍तेमाल करते हैं। गिटहब पर मौजूद इस ऐप को ओपन करने पर यूजर को मेसेज दिखेगा कि ‘Find your **** Deal of the Day’। आगे बढ़ने पर आपको रैंडमली किसी मुस्लिम महिला की फोटो दिखेगी जो उनके सोशल मीडिया अकाउंट से उठाई गई होगी। इस ऐप की चर्चा तब शुरू हुई जब ट्विटर पर इन लोगों ने 'डील ऑफ द डे' करके तस्‍वीरें शेयर करनी शुरू कीं। ऐप को GitHub ने हटा दिया है।
बिना परमिशन अपलोड की गई महिलाओं की तस्‍वीरें
'*** फॉर सेल' नाम से एक ओपन सोर्स ऐप बनाई गई। इसमें महिलाओं के ट्विटर हैंडल से जानकारियां और पर्सनल फोटो चोरी कर डाली गईं। फिर इन्हें सार्वजनिक तौर पर नीलाम किया गया। इसी को '*** डील्‍स' कहा गया। यह ऐप लोगों को नोटिफिकेशन भेजता था कि 'फाइंड योर **** डील ऑफ द डे'। इस ऐप पर सैकड़ों महिलाओं की तस्वीरें बिना परमिशन के अपलोड की गई थीं।
दिल्‍ली में रहने वाली नाबिया खान की तस्‍वीर भी ऐप पर शेयर हुई। उन्‍होंने हमारे सहयोगी इंडियाटाइम्‍स से बातचीत में कहा, "बेसिकली उस ऐप पर हमारी जानकारी के बिना हिंदू मर्दों ने हमें नीलाम क‍िया।" खान ने कहा, "आप उन लोगों के जरिए नीलाम किए जा रहे हैं जिनके पीछे सत्‍ता का एक पूरा तंत्र है। आपको लगता है कि आपके पास कोई ताकत नहीं है और इससे बेहद तनाव होता है, रातों को नींद नहीं आती। ऐसा इसलिए क्‍योंकि आप जानते हैं कि कानून कभी आपकी रक्षा नहीं करेगा।"
GitHub ने शिकायत मिलने के बाद ऐप बनाने वाले यूजर को सस्‍पेंड कर दिया है। नाबिया ने कहा कि उन्‍हें उनके धर्म की वजह से निशाना बनाया गया। उन्‍होंने कहा, "आमतौर पर पुरुषों को ऐसी महिलाओं से डर लगता है जो आगे बढ़कर बात करती है। खुलकर बोलना ही महिलाओं पर हमला करने के लिए काफी है। और खुलकर बोलने वाली मुस्लिम औरत तो सबसे बड़ा खतरा है।"
रितेश झा का नाम पिछले साल चर्चा में आया था जब कुछ कॉल रिकॉर्डिंग्‍स लीक हुईं थी। कथित रूप में इनमें उसने कबूला था कि उसने घर में काम करने वाली मुस्लिम महिला का यौन शोषण क‍िया और उसका वीडियो इंटरनेट पर डाला। यूट्यूब पर Liberal Doge नाम के चैनल पर मुस्लिम महिलाओं की ईद वाली तस्‍वीरों को सेक्‍सुअलाइज किया गया। इसमें भी रितेश का नाम आया।
ट्विटर पर कुछ चैट के स्‍क्रीनशॉट्स भी शेयर किए जा रहे हैं जिनमें रितेश कथित रूप से हिंदू लड़कों को 'मुस्लिम महिलाओं को टारगेट करने' को कह रहा है। यह साफ नहीं है कि '*** डील्‍स' प्रकरण से रितेश का लेना-देना है या नहीं, मगर उसे अरेस्‍ट करने और समर्थन में ट्रेंड जरूर चल रहे हैं।