गाजियाबाद में एसएसपी के थाने जाने पर लिखी गई छात्रा से मोबाइल लूट की रिपोर्ट, कई पुलिस वालों पर गिरी गाज


सूर्य प्रकाश,(गाजियाबाद ब्यूरो)। छात्रा से मोबाइल लूट की रिपोर्ट न लिखना एक चौकी इंचार्ज और कई सिपाहियों को भारी पड़ गया। जब थाने में रिपोर्ट नहीं लिखी गई तो छात्रा ने इसकी शिकायत ऊपर कर दी और लोकल पुलिस को लेने के देने पड़ गए।  मसूरी की बीए प्रथम की छात्रा प्रवेश गहलोत से मोबाइल लूट की रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए एसएसपी अमित पाठक को खुद थाने जाना पड़ा। वह तब गए जब छात्रा ने बृहस्पतिवार दोपहर को उनके दफ्तर पहुंचकर उनसे पूछा, आखिर मेरी रिपोर्ट कौन दर्ज करेगा, यूपी-112 वालों ने चौकी भेजा, चौकी वाले कहते हैं कि ई-एफआईआर दर्ज करा लो, यह हो नहीं रही है। इस पर एसएसपी ने मसूरी थाने में पहले केस दर्ज कराया, फिर रिपोर्ट दर्ज न करने पर आठ पुलिसवालों पर कार्रवाई कर दी। इनमें चौकी इंचार्ज और सिपाही को सस्पेंड किया गया है। अन्य छह लाइन हाजिर किए गए हैं। सभी के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश भी दिए हैं।
प्रवेश से बाइक सवार बदमाशों ने मसूरी की गार्डन एनक्लेव चौकी क्षेत्र में मोबाइल लूट लिया था। छात्रा ने यूपी-112 के अलावा चौकी पुलिस से भी संपर्क किया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। शिकायत सुनकर एसएसपी अमित पाठक खुद उसे अपने साथ लेकर रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए मसूरी थाने पहुंच गए। उन्होंने अपने सामने छात्रा से तहरीर लिखवाई और वादी की तरह पुलिस रिपोर्ट दर्ज करने का आग्रह किया। सामने कप्तान बैठे थे, लिहाजा पुलिस के होश उड़े रहे और आनन-फानन रिपोर्ट दर्ज कर उसकी कॉपी छात्रा को थमा दी गई ।
छात्रा ने बताया कि लूट होने के बाद वह पहले घर गई, क्योंकि पुलिस को सूचना देने के लिए मोबाइल नहीं था। यूपी-112 को सूचना दी, पुलिस आई और सलाह देकर चली गई, तहरीर लेकर चौकी जाओ। चौकी पहुंची तो इंचार्ज नह?ीं मिले। उन्हें फोन किया तो बोले, छुट्टी पर हूं। कार्यवाहक चौकी प्रभारी से मदद मांगी तो उसने भी कोई कार्रवाई नहीं की। गार्डन एनक्लेव चौकी पहुंचने पर पुलिस ने सिम बंद कराने और ई-एफआईआर दर्ज कराने की सलाह दे दी। बुधवार को छात्रा को चौकी बुलाकर मोबाइल का बिल ले लिया गया और नगर कोतवाली स्थित साइबर सेल जाने की सलाह दे दी गई। परेशान होकर वह एसएसपी दफ्तर पहुंची।
छात्रा पर बुरा असर न पड़े, इसलिए खुद गया रिपोर्ट लिखाने- एसएसपी अमित पाठक
एसएसपी अमित पाठक का कहना है कि लगातार पुलिसिंग और पुलिसकर्मियों के व्यवहार में सुधार की कवायद की जा रही है इसके बावजूद कुछ पुलिसकर्मी लापरवाही कर रहे हैं। छात्रा उनके पास आकर पुलिस के प्रति भड़ास निकाल रही थी। उस पर पुलिस को लेकर बुरा असर न पड़े, इसलिए वह खुद एफआईआर दर्ज कराने के लिए मसूरी थाने पहुंचे।
एसएसपी ने थाने पर ही एसपी प्रोटोकॉल सुभाष चंद्र गंगवार व यूपी-112 के नोडल अधिकारी भी बुला लिए। एसएसपी का कहना है कि पीआरवी पर तैनात दो पुलिसकर्मी, लेपर्ड पर तैनात दो पुलिसकर्मी तथा गार्डन एनक्लेव चौकी के दरोगा व एक हेड कांस्टेबल पूरे मामले में दोषी पाए गए हैं। गार्डन एनक्लेव के चौकी इंचार्ज इ‘छा राम और सिपाही सतेंद्र सिंह को निलंबित किया गया है। बाकी को लाइन हाजिर कर विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए हैं।
रिपोर्ट दर्ज न हो तो यहां करें शिकायत
पुलिस रिपोर्ट न दर्ज न करे तो एसएसपी के नंबर 9643322900, एसपी ग्रामीण के नंबर 9643322902, एसपी सिटी प्रथम के नंबर 9643322901 तथा एसपी सिटी सेकेंड 9643322903 के नंबर पर शिकायत की जा सकती है।
मोदीनगर सीओ कार्यालय व नौ थानों के 21 पुलिसकर्मी लाइनहाजिर
एसएसपी अमित पाठक ने ड्यूटी में लापरवाही बरतने व अन्य अनियमितताओं को लेकर बृहस्पतिवार को मोदीनगर सीओ कार्यालय के हेड कांस्टेबल समेत 9 थानों के 21 कांस्टेबल में हेड कांस्टेबल लाइन हाजिर कर दिए। इनमें विजयनगर का 1, नंदग्राम के 3, मधुबन बापूधाम का 1, साहिबाबाद के 2, टीला मोड़ के 3, इंदिरापुरम के 3, कौशाम्बी के 4, भोजपुर के 2 व निवाड़ी थाने का 1 पुलिसकर्मी शामिल है। मोदीनगर सीओ कार्यालय के भी एक हेड कांस्टेबल को लाइन हाजिर किया गया है।