सुनवाई में देरी से नाराज शख्स ने कड़कड़डूमा कोर्ट रूम में की तोड़फोड़, जान बचाकर भागा स्टाफ


  • सुनवाई में देरी से नाराज शख्स ने कोर्ट रूम में की तोड़फोड़
  • घटना से डरा कोर्ट के स्टाफ वहां से जान बचाकर भागे
  • कड़कड़डूमा फैमिली कोर्ट की चौथी मंजिल पर कोर्ट नंबर 66 की घटना
दिल्ली ब्यूरो। कथित तौर पर केस की धीमी सुनवाई से नाराज एक शख्स ने कोर्ट रूम में पहुंचकर तोड़फोड़ शुरू कर दी। उसने सबसे पहले कोर्ट रूम में रखी कुर्सियों को उठाकर तोड़ना शुरू किया। कुर्सी की मदद से ही पूरा कंप्यूटर सिस्टम, जज की डायस, लाइट्स, पंखों को तोड़ डाला। कोर्ट रूम में मौजूद स्टाफ ने जब उस शख्स को रोकने की कोशिश की तो वह कुर्सी उठाकर उन्हें मारने के लिए दौड़ा। स्टाफ ने वहां से भागकर किसी तरह से अपनी जान बचाई। इसके बाद पुलिस को कॉल की गई। जब तक पुलिस मौके पर पहुंची, आरोपी मौके से फरार हो गया। आरोपी की पहचान राकेश के रूप में हुई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी।
कड़कड़डूमा कोर्ट में हुई घटना
तोड़फोड़ की यह घटना कड़कड़डूमा कोर्ट में फैमिली कोर्ट की चौथी मंजिल पर कोर्ट नंबर 66 में हुई। कोरोना की वजह से इस समय ज्यादातर कोर्ट मामलों की सुनवाई ऑनलाइन कर रही है। रोटेशन के हिसाब से हर कोर्ट का कुछ स्टाफ कोर्ट आकर जरूरी काम निपटाता है। शनिवार सुबह कोर्ट नंबर 66 का कुछ स्टाफ कोर्ट रूम में बैठकर कंप्यूटर पर कोर्ट की कार्रवाई से संबंधित जरूरी काम निपटा रहा था। बाकी स्टाफ एह्लमद रूम में मौजूद था।
सुबह 10 बजे के करीब राकेश कोर्ट रूम में पहुंचा। उसने कोर्ट रूम में घुसते ही जोर-जोर से चिल्लाना शुरू कर दिया। इससे पहले कि कोर्ट स्टाफ कुछ समझ पाता उसने कोर्ट रूम में रखी कुर्सियों को उठाकर फर्श पर पटक पटक कर तोड़ना शुरू कर दिया। उसने कुर्सी से ही पूरे कंप्यूटर सिस्टम को तहस नहस कर दिया। आरोपी ने जज की कुर्सी के सामने कोरोना को ध्यान में रखते हुए बनाई गई स्पेशल पारदर्शी स्क्रीन को भी तोड़ दिया। छत में लगीं लाइट्स और पंखों को भी तोड़ दिया। कोर्ट स्टाफ ने जब उसे रोकने की कोशिश की तो वह कुर्सी लेकर उन्हें मारने के लिए दौड़ा।
इससे कोर्ट स्टाफ डर गया और उन्होंने वहां से भागकर किसी तरह से अपनी जान बचाई। मामले की गंभीरता को देखते हुए एसएचओ फर्श बाजार सहित कई पुलिस वाले मौके पर पहुंच गए, लेकिन तब तक आरोपी मौके से फरार हो चुका था। पुलिस ने मौके का मुआयना करने के बाद कोर्ट स्टाफ से तोड़े गए सामान की लिस्ट बनाकर देने के लिए कहा। आरोपी, परिवार के साथ शास्त्री पार्क इलाके की झुग्गी बस्ती में रहता है। किसी ने उसकी झुग्गी पर कब्जा कर लिया था। मामला कोर्ट में चल रहा था। वह अपने केस की प्रगति को लेकर नाराज था।