बरेली पुलिस ने स्मैक तस्करों को पकड़ा, पेट में बांधकर कई राज्यों में की जाती थी तस्करी


बरेली। बरेली पुलिस ने अंतर्राज्यीय स्मैक तस्कर गैंग का भंडाफोड़ करते हुए दो अपराधियों को डेढ़ करोड़ की स्मैक और 40 लाख कैश के साथ गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार दोनों अपराधी सगे भाई हैं। इसी गैंग में शामिल महिला तस्कर पुलिस को चकमा देकर भागने में सफल रही।
बरेली एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने बताया कि बरेली पुलिस बारादरी थाना अंतर्गत श्यामगंज चौराहे के पास संदिग्ध व्यक्तियों और वाहनों की चेकिंग कर रही थी। पुलिस टीम को देख बाइक सवार स्मैक तस्कर सकपका गए और भागने का प्रयास करने लग गए। इसी प्रयास में उनकी बाइक सड़क पर गिर गई। पुलिस टीम ने घेराबंदी कर राजू और मुन्ना निवासी पदारथपुर थाना बिथरी चैनपुर जिला बरेली को गिरफ्तार कर लिया।
डेढ़ करोड़ की स्मैक बरामद
जिस बाइक पर ये दोनों भाई सवार थे, उसको भी कब्जे में ले लिया है। तलाशी के दौरान इनके पास से 1 किलो 500 ग्राम स्मैक बरामद करते हुए 3 इलेक्ट्रॉनिक कांटे भी बरामद किए गए हैं। स्मैक की अंतर्राष्ट्रीय कीमत डेढ़ करोड़ रुपये बताई जा रही है। पकड़े गए सगे भाइयों की निशानदेही पर इनके घर से काले धंधे से संबंधित 40 लाख रुपये बरामद कर लिए गए हैं। इस मामले में बरेली के एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने मौके से महिला तस्कर हफीजन निवासी फतेहगंज पश्चिमी भागने में सफल रही। उसकी तलाश में पुलिस की टीमें जुटी हैं।
पुलिस की छापामारी के बीच महिला तस्कर हफीजन भाग निकली। पुलिस उसकी तलाश कर रही है, लेकिन उसके पकड़े गए साथियों से पूछताछ करने पर पता चला कि स्मैक की तस्करी में महिलाओं का ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। गिरोह सदस्यों ने बताया कि हफीजन अपने पेट से स्मैक बांधकर देहरादून, पंजाब, चंडीगढ़ और हरियाणा आदि राज्यों के अलावा कई प्रमुख शहरों को भी ले जाती थी। वह सामान्य तौर पर बस और रेल में ही सफर करती थी। वह अपने पेट पर चारों ओर कपड़े की एक बेल्ट इस्तेमाल करती थी, जिसमें स्मैक के छोटे छोटे पैकेट छुपा लेती थी। हर किसी को इसका अंदाजा नहीं होता था कि महिला के पेट पर महिला के पेट पर कुछ बंधा है।