‘प्रधानमंत्री ऋण योजना’ के बहाने लोगों से करते थे ठगी, 11 युवतियों के साथ फर्जी काल सेंटर का मैनेजर गिरफ्तार


नई दिल्ली।
रोहिणी जिला पुलिस की साइबर सेल ने रोहिणी सेक्टर छह में विश्राम चौक के पास चल रहे फर्जी काल सेंटर का भंडाफोड़ किया है। मौके से काल सेंटर के मैनेजर व 11 युवतियों को गिरफ्तार किया है। मैनेजर की पहचान नांगलोई निवासी दीपक सैनी के रूप में हुई है। काल सेंटर से एक लैपटाप व 29 मोबाइल आदि बरामद किए गए हैं।
रोहिणी जिला पुलिस उपायुक्त प्रणव तायल ने बताया कि जिले की साइबर सेल को रविवार को रोहिणी सेक्टर छह में फर्जी काल सेंटर चलने की जानकारी मिली थी। इस मामले में साइबर सेल के इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह के नेतृत्व में एक टीम बनाई गई। इसके बाद काल सेंटर पर छापेमारी की गई। पुलिस को देखकर आरोपित फोन छिपाने लग गए, लेकिन पुलिस ने सभी फोन बरामद कर लिए। इसके बाद रोहिणी नार्थ थाने में मामला दर्ज कर आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया।
पूछताछ के दौरान पता चला कि आरोपित ‘प्रधानमंत्री ऋण योजना’ के तहत कम ब्याज दर पर ऋण देने के बहाने लोगों से ठगी करते थे। आरोपित पहले लोगों को कम ब्याज दरों पर ऋण उपलब्ध करवाने का झांसा देते थे। इसके बाद प्रोसेसिंग फीस के नाम पर लोगों से पैसे ऐंठते थे। इसके बाद फिर किसी दूसरे बहाने से लोगों से पैसे मांगते थे। जैसे ही आरोपितों को पैसे मिलते वह लोगों के फोन नंबर ब्लाक कर देते थे।