आर्थिक तंगी के चलते जमा नहीं की फीस, 120 से ज्यादा छात्राओं को मुरादाबाद के स्कूल ने किया ऐब्सेंट तो बोर्ड एग्जाम में हुईं फेल


मुरादाबाद। मुरादाबाद शहर में एक स्कूल की छात्राओं को अनुपस्थित के रूप में चिह्नित किया गया, जिसके बाद 120 से ज्यादा छात्राएं फेल हो गईं। बारहवीं कक्षा में पढ़ने वाली इन छात्राओं को उत्तर प्रदेश बोर्ड परीक्षा में फेल कर दिया गया है। छात्राओं का आरोप है कि उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण वे फीस नहीं जमा कर सकीं, जिसके चलते स्कूलवालों ने उन्हें फेल कर दिया।
कोरोना के चलते इस साल दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द कर दी गई थीं। यूपी बोर्ड के लिए मार्किंग सिस्टम सीबीएसई की तरह ही था। बारहवीं कक्षा के लिए, अंकों को 50:40:10 के अनुपात में विभाजित किया गया था। बोर्ड ने दसवीं कक्षा में प्राप्त 50 फीसदी, ग्यारहवीं कक्षा में 40 फीसदी और प्री-बोर्ड में मिले 10 फीसदी अंकों के आधार पर रिजल्ट तैयार किया और परिणाम 31 जुलाई को घोषित किए गए।
डीएम कार्यालय पर दिया धरना
कॉलेज के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर छात्राओं और उनके अभिभावकों ने सोमवार को कॉलेज के बाहर और जिलाधिकारी कार्यालय के गेट पर धरना दिया। छात्रों ने यह भी मांग की कि उन्हें परीक्षा में उपस्थित के रूप में चिह्नित किया जाए ताकि उनका शैक्षणिक वर्ष नष्ट न हो।
डीएम ने दिए जांच के आदेश
उधर, मुरादाबाद जिला प्रशासन ने मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि यह मामला उनके संज्ञान में आया है। लगभग 70 छात्र, जो कथित तौर पर अपनी प्री-बोर्ड परीक्षा में उपस्थित नहीं हुए थे और उन्हें अनुपस्थित के रूप में चिह्नित किया गया था, बोर्ड परीक्षा में असफल रहे हैं। हालांकि, छात्रों ने दावा किया है कि फीस का भुगतान न करने के कारण वे फेल हो गए हैं।
छात्राओं का आरोप है कि उन्हें परीक्षा में जानबूझकर अनुपस्थित किया गया है। डीएम ने कहा कि डीआईओएस अरुण दुबे के नेतृत्व में एक टीम मामले की जांच करेगी। जांच के आधार पर आगे की कार्रवाई तय की जाएगी।
कोरोना काल में नहीं जमा कर पाए फीस
विरोध करने वाले छात्रों में से एक, ख़ुशी गौतम ने कहा, 'महामारी के कारण, हम एक कठिन समय से गुजर रहे थे। कुछ छात्रों के माता-पिता को व्यवसायों में भारी नुकसान हुआ। कई के माता-पिता बेरोजगार हो गए। इसलिए हममें से ज्यादातर लोग फीस नहीं भर सके। लेकिन हम अभी भी तैयारी कर रहे थे और प्री-बोर्ड परीक्षा में शामिल हुए। परीक्षा में 120 छात्र फेल हुए हैं। कॉलेज ने हमें बताया कि फीस का भुगतान न करने के कारण हमें अनुपस्थित कर दिया।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर