दोगुनी हुई डासना देवी मंदिर की सुरक्षा, 45 पुलिसकर्मी तैनात


मोहनलाल गौड़,(गाजियाबाद ब्यूरो)। साधु समेत दो लोगों पर पेपर कटर से हमले के बाद डासना देवी मंदिर की सुरक्षा दोगुनी कर दी गई है। पुलिस और पीएसी के 45 जवान सुरक्षा में तैनात किए गए हैं। अब मंदिर परिसर में कहीं से प्रवेश करना आसान नहीं होगा। हालांकि, चार दिन बाद भी पुलिस हमलावर को पकड़ना तो दूर, उनके बारे में कोई सुराग तक नहीं लगा सकी है।
मसूरी के डासना देवी मंदिर पर पुलिस का कड़ा पहरा रहता है। इसके बावजूद मंगलवार रात 3 बजे अज्ञात हमलावर मंदिर परिसर में घुसा और सो रहे बिहार समस्तीपुर निवासी साधु नरेशानंद सरस्वती समेत दो लोगों पर धारदार हथियार से हमला कर उन्हें लहूलुहान कर दिया। हमलावर दीवार फांदकर फरार हो गया। घटना के बाद मंदिर महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती ने कहा था कि हमलावर उनकी हत्या करने के लिए आया था। लेकिन, उनकी जगह दूसरे साधु पर हमला कर दिया। ड्यूटी में लापरवाही पर एसएसपी ने गारद के दो पुलिसकर्मियों को निलंबित किया था। वहीं, बृहस्पतिवार को मेरठ दौरे पर आए डीजीपी मुकुल गोयल ने भी घटना को बेहद गंभीर बताया और दोबारा से ऐसी घटना की पुनरावृत्ति न होने देने की हिदायत दी थी। इसके बाद स्थानीय पुलिस अधिकारियों ने मंदिर की सुरक्षा बढ़ाने का फैसला लिया।
मंदिर पर पहले तैनात थे 25 पुलिसकर्मी
एसपी ग्रामीण डॉ. ईरज राजा ने बताया कि डासना देवी मंदिर की सुरक्षा में पूर्व में एक प्लाटून पीएसी समेत 25 पुलिसकर्मी तैनात थे। इनमें महंत के चार गनर और गारद के चार पुलिसकर्मी शामिल हैं। मंदिर की सुरक्षा बढ़ाते हुए अब पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाकर 45 कर दी गई है। दो शिफ्टों में पुलिसकर्मियों से ड्यूटी ली जाएगी।
परिसर पर पुलिस का पहरा
पूर्व में सिर्फ मंदिर के प्रवेश द्वार पर पुलिसकर्मी तैनात रहते थे और एक गारद परिसर में तैनात रहती थी। फोर्स की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ पूरे मंदिर परिसर पर पुलिस का पहरा कर दिया गया है, ताकि भविष्य में किसी तरह की अप्रिय घटना न हो सके। इसके साथ-साथ मंदिर परिसर के खराब पड़े सीसीटीवी कैमरे भी दुरुस्त कराए जा रहे हैं।
घटना को हुए चार दिन बीत चुके हैं, लेकिन पुलिस हमलावरों के बारे में कोई भी सुराग लगाने में नाकाम है। पुलिस का मुखबिर तंत्र और हाईटेक तकनीक फेल साबित हुई। पुलिस ने कैमरे खंगाले, मोबाइल डंप उठाकर संदिग्ध नंबर ट्रेस किए और पेपर कटर बेचने वाले दुकानदारों से बातचीत भी की, लेकिन कोई सफलता नहीं मिल सकी। एसपी ग्रामीण का कहना है कि सभी पहलुओं पर जांच की जा रही है। हमलावरों को ट्रेस कर उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा।


Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर