गाजियाबाद में खुद को क्राइम ब्रांच का अफसर बताकर बुजुर्ग दंपति से लूटे जेवर


  • गाजियाबाद में बदमाशों ने खुद को क्राइम ब्रांच का अफसर बताकर दूध-सब्जी खरीदने निकले बुजुर्ग दंपती को डराया
  • वह पुरुष को पूछताछ के लिए दूर ले गए वहीं दूसरे आरोपी ने बुजुर्ग महिला से सोने की जूलरी लूट ली
  • पीड़ित की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है, दोनों आरोपियों की तलाश की जा रही है
गाजियाबाद ब्यूरो। गाजियाबाद के इंदिरापुरम में बदमाशों ने खुद को क्राइम ब्रांच का अफसर बताकर दूध-सब्जी खरीदने निकले बुजुर्ग दंपती को डराया और सोने की जूलरी लेकर फरार हो गए। 2 बाइक पर आए 3 बदमाशों ने शुक्र चौक के पास वारदात की। पीड़ित की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है।
नीति खंड एक में रहने वाले राजस्व विभाग से रिटायर्ड सुशील कुमार ने बताया कि पत्नी सरोज के साथ रोज की तरह मंगलवार सुबह दूध और सब्जी खरीदने निकले हुए थे। शुक्र चौक के पास अचानक पीछे से उन्हें एक लड़के ने आवाज लगाई। आरोपी ने खुद को क्राइम ब्रांच का ऑफिसर बताते हुए पेड़ के नीचे बैठे अधिकारी के पास चलने की बात कही।
उसने बुजुर्ग को साथ चलने और उनकी पत्नी को वहीं रुकने के लिए कहा। पीड़ित के फर्जी क्राइम ब्रांच ऑफिसर के पास पहुंचते ही उसने उनकी आईडी चेक करनी शुरू कर दी। वहीं, उनकी पत्नी के पास खड़े दूसरे शातिर ने वारदात बढ़ने की बात कहकर डराया और कंगन-अंगूठी उतारकर थैले में डालने को कहा।
महिला ने मना किया तो बदमाश ने उन्हें ऑफिस ले जाने की बात कहकर धमकाया। इसके बाद जबरन महिला से कंगन और अंगूठी उतरवाकर शातिर ने अपने हाथ में लिए लिफाफे में डालकर थैले में रख दिए। घर आकर पीड़िता ने लिफाफा खोला तो कंगन नकली निकले। इसके बाद पीड़ित सुशील कुमार ने फोन कर पुलिस को शिकायत दी।
घर से निकलने में डर रहीं महिला
पीड़ित ने बताया कि घर में दो ही लोग हैं। पेंशन से ही घर खर्च चलता है। घटना के बाद से ही महिला सहमी हुई हैं। पीड़िता ने बताया कि कंगन 25 वर्ष पहले परिवार के बुजुर्गों ने दिए थे। यह उनकी आखिरी निशानी थे। हालत ये है कि घर से बाहर निकलने में भी डर लग रहा है।