पुणे में फरासखाना पुलिस स्टेशन बना बांग्लादेशी दंपत्ति का घर


  •  बिना पासपोर्ट और वीज़ा के यह दंपत्ति बांग्लादेश से पुणे आया था
  • बीते दो महीने से पुलिस स्टेशन में रह रहा है परिवार
  • दलाल महिला से देह व्यापार करवाना चाहता था
  • पुणे पुलिस लगातार बांग्लादेश दूतावास से संपर्क करने की कोशिश कर रही है
पुणे,(महाराष्ट्र)। बीते दो महीने से पुणे का फरासखाना पुलिस स्टेशन इस दंपत्ति के लिए उनका घर बना हुआ है और इनके खाने- पीने का भी इंतज़ाम पुलिस ही कर रही है।
दलाल ने दिया था नौकरी का झांसा
आप सोच रहे होंगे की आखिर पुलिस क्यों इनके लिए इतना कुछ कर रही है। दरअसल यह दंपत्ति आज से ढाई साल पहले बांग्लादेश से पुणे नौकरी के सिलसिले में आया था। इन्हें पुणे में नौकरी दिलवाने का झांसा एक दलाल ने दिया था। परिवार की ख़राब माली हालत और बच्चों के भविष्य के लिए यह कपल दलाल के साथ पुणे आ गया। लेकिन दलाल ने इन दोनों का पति- पत्नी का पासपोर्ट और वीज़ा नहीं बनवाया था। उसने कहा था कि कोई दिक्कत नहीं होगी। लेकिन पुणे आते ही दलाल के सुर बदल गए और उनसे दंपत्ति से दो लाख रूपये मांगना शुरू कर दिया।
महिला से देहव्यापार करवाना चाहता था दलाल
दरअसल दलाल महिला से देहव्यापार करवाना चाहता था। इसीलिए उसने महिला को पुणे के रेड लाइट एरिया बुधवार पेठ के एक कमरे में बंद कर दिया था। उसने महिला से यह भी कहा था कि अगर पति को बचाना चाहती हो तो सेक्स वर्कर बनना पड़ेगा। लेकिन महिला ने मना कर दिया। जिसके बाद एक दिन महिला पास के पुलिस स्टेशन में पहुंचने में कामयाब रही। लेकिन अवैध रूप से भारत में आने और रहने की वजह से पुलिस ने दंपत्ति को गिरफ्तार कर लिया और उन्हें दो साल की सजा हो गई। इसी साल 21 जून को यह बांग्लादेशी कपल जेल से रिहा हुआ है।
अदालत ने दिया पुलिस को आदेश
अदालत ने पुलिस को आदेश दिया है कि दंपत्ति को सुरक्षित उनके देश पहुंचाने की व्यवस्था करें। तब से यह पति-पत्नी पुलिस में ही रह रहे है और यहीं पर नमाज़ भी अदा कर रहे हैं। पुलिस लगातार कोशिश कर रही है कि जल्द से जल्द उनके वतन भेजा जाए लेकिन बांग्लादेशी दूतावास की तरफ से कोई सकारत्मक जवाब नहीं मिल पाने के कारण मामला आगे बढ़ता जा रहा है। कभी कभी वीडियो कॉल के जरिये दंपत्ति बांग्लादेश में मौजूद अपने बच्चों से बातचीत करते हैं।
मोहम्मद मंडल और माजिदा मंडल बांग्लादेश के मूल निवासी हैं। 26 जून 2019 में उन्हें नौकरी देने के बहाने पश्चिम बंगाल के एक एजेंट द्वारा भारत लाया गया था। दंपति को पुणे लाया गया और पुणे के बुधवार पेठ इलाके में रखा गया था।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर